Cholesterol
Cholesterol

High Cholesterol: आज कल कम उम्र में ही कॉलेस्ट्रोल बढ़ने के लक्षण नजर आने लगते है। इसे अगर आप इग्नोर करेंगे तो ये आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। पिछले कुछ समय से दुनियाभर में हृदय रोगों के मामले काफी तेजी से बढ़े हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक हृदय रोग दुनियाभर में मौत के प्रमुख कारणों में से एक है। ध्यान देने वाली बात यह है कि कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ना हृदय रोगों की मुख्य वजह माना जाता है।

कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार को होता है- गुड कोलेस्ट्रॉल और बैड कोलेस्ट्रॉल। गुड कोलेस्ट्रॉल शरीर के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है जबकि बैड कोलेस्ट्रॉल धमनियों में प्लाक के निर्माण और रुकावट का कारण बन सकता है। ऐसे स्थिति हार्ट अटैक, स्ट्रोक या कार्डियक अरेस्ट की संभावना बढ़ जाती है।

हम में से कई लोग समझते हैं कि हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर या हार्ट अटैक का खतरा 40-50 साल के लोगों को होता है। लेकिन आज कल देखने में मिलता है कि 25 से 30 साल की उम्र वाले लोगों में कॉलेस्ट्रोल के लक्षण देखने को मिलते है। रोजाना की जीवनशैली और खान-पान की आदतों के कारण ये समस्या कम उम्र में ही देखने को मिल रही है। ऐसे में बेहतर है कि आप वक्त रहते वॉर्निंग साइन को पहचान लें। आइए जानते हैं शरीर में एलडीएल बढ़ने पर हमारा शरीर किस तरह के इशारे देता है।

Rahul Gandhi Diet: नट्स, मखाने और सीड्स! ये है राहुल गांधी की एनर्जी का सीक्रेट

हाई कॉलेस्ट्रोल के लक्षण-

चेहरे में मस्सें।

जबड़ों और बांहों में दर्द।

मतली आना।

बहुत अधिक पसीना आना।

सीने में दर्द

वजन बढ़ना : अगर आपके पेट और कमर के आसपास चर्बी जमने लगी है तो ये खून में बढ़ते कोलेस्ट्रॉल की निशानी है, मोटापे को कम करते हुए ही आप गंभीर नतीजों से बच सकते है, इसलिए वेट लॉस पर ध्यान दें।

आंखों के पास पीलापन आना : जब शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल हद से ज्यादा बढ़ जाता है, तो ऐसे में आंखों के आसपास पीले निशान नजर आने लगते है।

सांस लेने में समस्या होना : ज्यादा फिजिकल एक्टिविटीज के कारण पसीना आना हैरानी की बात नहीं, लेकिन अगर बेवजह ऐसा हो रहा है, या किसी तरह की बेचौनी महसूस हो रही है, तो आप तुरंत अलर्ट है जाएं।

कोलेस्ट्रॉल की जांच : हाई कोलेस्ट्रॉल के शुरुआती लक्षण बहुत ही मुश्किल से नजर आते हैं, हमारा शरीर तब इशारा देता है, जब स्थिति थोड़ी बिगड़ने लगती है। ऐसे में जरूरी है कि आप समय-समय पर लिपिड प्रोफाइल टेस्ट कराते रहें।

आहार पर रखें विशेष ध्यान-

अधिक मात्रा में सेचुरेटेड फैट का सेवन करने से बैड कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोगों का जोखिम बढ़ सकता है। आहार में फाइबर से भरपूर चीजों जैसे साबुत अनाज, दाल, बीन्स, सब्जियां, मक्का और फलों को शामिल करके इस तरह के खतरों से सुरक्षित रहा जा सकता है।

यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है।