Leg pain
Leg pain

Pain in feet : पैरों में दर्द होना वैसे तो आम बात है परंतु अगर यह दर्द लंबे समय तक रहता है तो यह चिंता की बात है । आज पैरों में दर्द होना एक आम समस्या बन गई है । पहले पैरों में दर्द होने का मुख्य कारण बढ़ती उम्र थी, लेकिन अब यह दर्द जवान लोगों और बच्चों में भी दिख रहा है। पैरों में दर्द होने के कईं कारण हो सकते हैं परंतु कुछ कारण ऐसे हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए और यदि लक्षण दिखें तो उनकी पहचान करें और किसी डॉक्टर से सम्पर्क करें ।

कुछ लोगों को कम उम्र में मांसपेशियों में दर्द होने लगता है। कई लोगों में बिना काम किए मांसपेशियों का दर्द शुरू हो जाता है। अगर आपके पैरों में भी लगातार दर्द हो रहा है तो उसे हल्के में न लें। एक्सपर्ट्स बताते हैं कि यह किसी गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है।

पैर में दर्द का कारण और उपचार-

अर्थराइटिस के कारणः अर्थराइटिस जैसी गंभीर बीमारी की वजह से भी हड्डियों में भयंकर दर्द होता है। इसे गठिया के नाम से भी जाना जाता है। इसकी वजह से शरीर के सायनोवियल ज्वाइंट में सूजन हो जाती है और हड्डियां कमजोर होने लगती है। जब बीमारी बढ़ती है तो हड्डियों में टूट-फूट भी शुरू हो जाती है।

नस सायटिका : पीठ के निचले हिस्से से निकलने वाली एक नस सायटिका नस नाम से जानी जाती है। इस बीमारी में होने वाले दर्द को सायटिका के नाम से जानते हैं। जब आपके पीठ के निचले हिस्से में कोई नस या हिस्सा निकलता है और सायटिका पर दबाव डालता है तो दर्द शुरू हो जाता है। इस बीमारी के आम लक्षण हैं किसमें झुनझुनी और पैरों में दर्द शुरू हो जाता है। आगे चलकर पैर सुन्न होने लगते हैं।

हड्डियों और टिश्यूज में सूजन आना-

हड्डियों से जुड़ी बीमारी है जिसमें हड्डियों और टिश्यूज में सूजन आ जाती है। यह सूजन आगे चलकर दर्द पैदा करती है यह बीमारी ज्यादातर शरीर के ऊपरी हिस्से को अपनी चपेट में लेती है और इस दौरान दर्द होता है। जहां पर टेंडन किसी मांसपेशी को हड्डी से जोड़ती है वहां भयानक दर्द होता है। आगे चलकर पैरों में भी दर्द बढ़ने लगता है।

कभी-कभी एक्सरसाइज करने , दौड़ने, सीढ़ियां चढ़ने-उतरने या किसी काम को करते-करते मांसपेशियों में खिंचाव आ जाता है और यही खिंचाव अगर जल्दी ठीक न किया जाए तो जीवनभर का दर्द बन जाता है । इसलिए यदि मांसपेशियों में खिंचाव महसूस हो तो फौरन डॉक्टर से कंसल्ट करें ।

टिश्यू की कमजोरी : यदि घुटनों से लेकर पैर के निचले हिस्से के किसी टिश्यू पर किसी प्रकार का वजन या भार पड़ता है तो टिश्यू के कमजोर हो जाने की संभावना बनी रहती है और फिर पैरों में सूजन आने लगती है जो धीरे-धीरे पैरों में दर्द का अनुभव करवाती हैं ।

गठिया : गठिया यूं तो बूढ़ापे और बढ़ती उम्र की समस्या है, लेकिन अब यह दिक्कत जवान लोगों में भी देखने को मिल रही है । यदि पैरों में बार-बार अकड़न महसूस हो रही है, तो यह गंभीर आर्थराइटिस हो सकता है और कुछ समय बाद गठिया को जन्म दे सकता है । यदि पैर के तलवों में छोटी-छोटी गांठे बनने लगे तो इसे वेर्रुकास कहते हैं । यह समस्या होने पर खड़े होने और चलते समय पैरों में दिक्कत महसूस होती है ।

Belly Fat Loss: कम करना चाहते हैं बेली फैट, तो नाश्ते में इन चीजों को करें इग्नोर

पैरों में दर्द के लक्षण-

पैरों में अचानक दर्द महसूस हो जो फिर बढ़ जाए ।
किसी तरह की चोट के कारण होने वाला दर्द ।
पैर के निचले हिस्से में गांठ महसूस होना ।
पैर में सूजन या भारीपन का अनुभव होना ।
मांसपेशियों में खिंचाव आने पर होने वाला दर्द ।

सुझाव-

याद रहे पैरों में हमेशा गद्देदार मोटे सोल वाले जूते, चप्पल या सैंडल पहनें ।
महिलाओं को इस बात का विशेष ख्याल रखना है कि ऊंची हील की सैंडल न पहनें।
वजन कंट्रोल में रखें । याद रखिए जितना वजन अधिक होगा, पैरों में दर्द होने की उतनी संभावना रहेगी ।
पैरों का दर्द कईं कारणों से हो सकता है इसलिए हमें हमेशा सचेत रहना चाहिए ।