Bhopal Crime
Bhopal Crime

भोपाल। गांधी नगर इलाके में रहने वाले एक ट्रांसपोर्ट कारोबारी के साथ क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने के नाम पर 49 हजार रूपए की ठगी का मामला सामने आया है। महिला जालसाज ने खुद को एसबीआई की क्रेडिट कार्ड शाखा का कर्मचारी बताकर उनसे ओटीपी पूछा और ठगी की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने आवेदन जांच के बाद अज्ञात आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है।

थाना पुलिस के मुताबिक सेक्टर 5 गांधी नगर निवासी शेख इकरार पुत्र शेख करामत(40) ट्रांसपोर्टर हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि गत 16 सितंबर को दोपहर करीब 4 बजे उनके मोबाइल पर एक कॉल आया। कॉल महिला ने किया था। जिसने खुद को एसबीआई क्रेडिट शाखा का कर्मचारी बताया और कहा कि आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट 70 हजार रूपए से बढ़ाकर 90 हजार रूपए करने को कहा। इसके बाद फरियादी के नंबर पर एक ओटीपी भेजा।

महिला जालसाज ने फरियादी से ओटीपी पूछा। इसके बाद उनके खाते से 49 हजार रूपए की हैदराबाद से शॉपिंग कर ली गई। इस बात का पता चलने पर उन्होंने तुरंत अपना क्रेडिट कार्ड ब्लॉक कराया और गांधी नगर व सायबर क्राइम में लिखित शिकायत की थी। जिसकी जांच के बाद रविवार को पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है।

Fraud: बेचने के लिए दी थी ऑडी, ना कार आई और कीमत भी नहीं मिली

ट्रैवल्स एजेंसी से ली दो कार लेकर जालसाज फरार

भोपाल। बजरिया थाना क्षेत्र स्थित कोच फैक्ट्री कॉलोनी में रहने वाले ट्रैवल्स संचालक से जालसाज ने दो कार किराए पर ली और हड़प ली। जालसाज ने प्रतिदिन एक कार का बारह सौ रुपए भाड़ा देने की बात कही थी। तीन महीने बीत जाने पर भी जालसाज ने भाड़ा नहीं दिया और कार लौटाने से भी इंकार कर दिया। इसके बाद मामला थाने पहुंच गया। पुलिस ने शिकायती आवेदन की जांच कर धोखाधड़ी और अमानत में खयानत का मामला दर्ज किया है।

थाना प्रभारी अनिल मौर्य ने बताया कि सुनील पवार पिता रेवाराम पवार (35) कोच फैक्ट्री कॉलोनी, बजरिया में रहते हैं। उन्होंने पुलिस को शिकायत करते हुए बताया कि नारियलखेड़ा गौतम नगर निवासी सुबीर सिंह ने 29 अक्टूबर को उनसे दो कार क्रमश: डिजायर और टाटा टियागो किराए पर ली थी। उन्होंने अपनी और अपने जीजा जी की कार सुबीर सिंह को दे दी। प्रति कार 1200 रुपए प्रतिदिन भाड़ा देने का तय हुआ था और एग्रीमेंट भी हुआ था, लेकिन आरोपी ने एक दिन भी कार का भाड़ा नहीं दिया। जब सुनील पवार ने अपनी कार वापस मांगी तो आरोपी ने कार भी लौटाने से इंकार कर दी।