Bhopal Crime
Bhopal Crime

भोपाल। कोहेफिजा थाना क्षेत्र स्थित बीडीए कॉलोनी लालघाटी में व्यवसायी के सूने मकान का ताला तोड़कर बदमाश सवा लाख रुपए की नगदी और अन्य सामान ले गए। घटना की जानकारी उनके पड़ोसी ने उन्हें मोबाइल पर दी थी। दरअसल, इस समय व्यवसायी मय परिवार राजस्थान में है। उनके लौटने के बाद ही चोरी गए अन्य सामान की सूची मिल सकेंगी।

एएसआई आरपी सिंह ने बताया कि महेश चौहान बीडीए कॉलोनी, लालघाटी में रहते हैं। वे व्यवसायी है और गत 18 जनवरी से परिवार के साथ राजस्थान गए हुए हैं। शुक्रवार सुबह उनके पड़ोसियों ने उन्हें मोबाइल पर जानकारी दी कि मकान के मुख्य गेट का ताला टूटा हुआ है।

महेश चौहान ने घटना की जानकारी अपने साले अजय पवार को दी और घर जाकर देखने के लिए कहा। अजय पवार घर पहुंचे तो बहन ने बताया कि उन्होंने सवा लाख रुपए कवर्ड में रखे थे। अजय ने कवर्ड चेक की, लेकिन उसमें रुपए नहीं मिले।

Bhopal News: ग्वालियर से भोपाल आ रहा सात क्विंटल नकली पनीर पुलिस ने पकड़ा

दो महीने से वेतन नहीं मिला, लोन की रिकवरी करने पहुंच रहे थे एजेंट

भोपाल। चूनाभट्टी थाना क्षेत्र स्थित दुर्गा नगर में पोस्ट आफिस की संविदा सफाईकर्मी ने शुक्रवार सुबह फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उनकी लाश कमरे में पाइप पर साड़ी के फंदे से लटकी मिली। उनके पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस पोस्ट आफिस पहुंचकर अधिकारियों से भी वेतन नहीं देने का कारण पूछेगी।

प्रधान आरक्षक दिग्विजय सिंह ने बताया कि अनिता मैना पति बाबूलाल मैना (45) दुर्गा नगर, चूनाभट्टी में रहती थी। वह पोस्ट आफिस में संविदा सफाईकर्मी थीं, जबकि उनके पति पीएचई विभाग में ठेकेदार के पास काम करते हैं। अनिता ने शुक्रवार सुबह फांसी लगा ली। परिजन ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया और शव पीएम के बाद परिजन को सौंप दिया।

पुलिस की पूछताछ में यह बात सामने आई कि अनिता और बाबूलाल के तीन लड़के और एक लड़की है। दो बेटे अलग रहते हैं और प्राइवेट काम करते हैं। जबकि एक बेटा और बेटी उनके साथ रहते हैं। बेटी काजल मैने ने पुलिस को बताया कि किश्त नहीं चुकाने पर गुरुवार शाम रिकवरी एजेंट घर पहुंचे थे। उन्होंने किश्त के बारे में पूछताछ की तो मां ने बताया कि दो महीने से वेतन नहीं मिला है।

रिकवरी एजेंट ने कहा कि अगले महीने तक आप पुरानी और नई किश्त जमा कर देना। पुलिस को अनिता के पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है। परिजन के बयान के बाद अनुमान लगाया जा रहा है कि वेतन नहीं मिलने से दुखी होकर उन्होंने आत्महत्या की है।