भोपाल। नरेला विधानसभा अंतर्गत ऐशबाग फाटक पर पैदल यात्रियों के आवागमन की सुविधा के लिए फुट ओवरब्रिज का निर्माण किया जायेगा। यह घोषणा चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने ऐशबाग फाटक के निरीक्षण के दौरान की। उन्होंने बताया कि ऐशबाग फाटक के बंद हो जाने के कारण क्षेत्र के पैदल यात्रियों को आवाजाही में असुविधा हो रही थी। वहीं, क्षेत्रवासियों की मांग को मद्देनज़र रखते हुए फाटक पर शीघ्र ही फुटओवर ब्रिज का निर्माण किया जायेगा। निरीक्षण के दौरान डीआरएम सौरभ बंदोपाध्याय, एसडीएम मनोज वर्मा, रेलवे के वरिष्ठ अधिकारीगण सहित क्षेत्र के रहवासी भी उपस्थित रहे।

ऐशबाग फाटक पर बनेगा फुटओवर ब्रिज

मंत्री सारंग ने बताया कि ऐशबाग क्षेत्र में ट्रैफिक के दबाव को देखते हुए ऐशबाग आरओबी का निर्माण कार्य प्रारंभ हो गया है। आरओबी ऐशबाग स्टेडियम के समीप लगभग 648 मीटर लंबाई और 08.40 मीटर चौड़ाई के साथ बनने जा रहा यह आरओबी ऐशबाग फाटक से बोगदापुल की तरफ उतरेगा। वहीं, ऐशबाग की रेलवे क्रॉसिंग क्रमांक 250 के बंद हो जाने से क्षेत्र के नागरिकों को ऐशबाग के आसपास बसी कॉलोनियों की तंग गलियों से आवागमन करना पड़ता है। इस समस्या के स्थाई समाधान के लिये ऐशबाग फाटक पर 10 फ़ीट चौड़ा 60 मीटर लंबा फुटओवर ब्रिज का निर्माण किया जायेगा।

ऐशबाग में आरओबी के साथ एफओबी क्यों है आवश्यक

मंत्री सारंग ने बताया कि ऐशबाग आरओबी के निर्माण से क्षेत्र में वाहनों का आवागमन सुलभ हो जाएगा। परन्तु स्थानीय रहवासियों को पैदल पटरी पर करने हेतु लगभग 1.5 किलोमीटर चक्कर लगाकर पटरी क्रॉस करनी होगी। इसी कठिनाई को मद्देनजर रखते हुए बंद हो चुके ऐशबाग फाटक पर फुटओवर ब्रिज का निर्माण कराया जा रहा है।

सुभाष चन्द्र बोस जयंती : 75 सरस्वती शिशु मन्दिरों के 1500 भैया-बहिनों ने किया घोष वादन

मंत्री सारंग ने नागरिकों से किया संवाद

निरीक्षण के दौरान मंत्री सारंग ने क्षेत्र के नागरिकों से संवाद कर उनकी समस्याओं को भी सुना। इस दौरान क्षेत्रवासियों ने फाटक से ऐशबाग पुलिस थाने की ओर आवाजाही के लिये अस्थाई रूप से व्यवस्था की भी मांग की। मंत्री सारंग ने फाटक की दूसरी ओर बने सेफ्टीवॉल में लगभग 3 फीट चौड़े अस्थायी रास्ता बनाने के निर्देश दिये। उल्लेखनीय है कि शनिवार को ऐशबाग के क्षेत्रिय नागरिक अपनी समस्या लेकर मंत्री सारंग के निवास पर पहुंचे थे। जिसपर तत्काल एक्शन लेते हुए मंत्री सारंग ने डीआरएम के साथ ऐशबाग फाटक का दौरा कर यह निर्णय लिया।