भोपाल। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा कर्मचारियों को धमकी देने पर गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि धोखा और धमकी देना अब कांग्रेस व कमलनाथ कि पहचान हो गई है। गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ ऐसी धमकियां देते रहते हैं। जब उपचुनाव थे, तब भी कर्मचारी-अधिकारियों को धमकी दी थी।

कमलनाथ ने कहा था कि लाल परेड मैदान में हम झंडा फहराएंगे, अगली विधायक दल कि बैठक सीएम हाउस में होगी। लेकिन हुआ क्या सब जानते हैं। वैसे भी कर्मचारी इनसे डरते नहीं हैं। उन्हें पता है कि वहाँ सबके रेट फिक्स हैं, उन्हें कोई दिक्कत नहीं आने वाली है।

कांग्रेस की धमकियों और धोखे दोनों में ही दम नहीं

गृह मंत्री डॉ मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस की धमकियों और धोखे दोनों में ही दम नहीं रहा है। कर्मचारी और किसान इनके धोखे और धमकी को जानते हैं। किसानों और नोजवानो को इन्होंने लिखित में धोखा दिया है। आने वाले चुनाव में किसान और नौजवान जरूर काँग्रेस को इस धोखे की सजा देँगे।

कार्तिकेय की “मामा कोचिंग क्लास” बना रही नए सियासी समीकरण

गोविंद फिर हमलावर, अब आयुष्मान को लेकर सरकार को घेरा

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह ने आयुष्मान योजनाओं में करोड़ों रूपये का घोटाला होने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि मरीजों को बिना अस्पताल में भर्ती किए करोड़ों रुपए का घोटाला किया जा रहा है। अफसरों और मंत्रियों की मिलभागत से इस गोरखधंधे को अंजाम दिया जा रहा है।

नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि स्वास्थ्य विभाग की महिला अधिकारी और एसीएस स्तर के अधिकारी की मिलीभगत से करोड़ों रुपए का हेरफ़ेर किया जा रहा है। डॉ गोविंद सिंह ने कहा कि सीएम कहते हैं कि जीरो टोलरेंस होगा, तो फिर इस मामले में चुप क्यों बैठे हैं। वे घोटालों के इतने खिलाफ हैं तो इस मामले को सीबीआई को सौंप देना चाहिए।

आयुष्मान योजना के नाम से प्रदेश को लूटा जा रहा

उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना के नाम से प्रदेश को लूटा जा रहा है। जितनी लूट डकैतों ने नहीं की, उतनी लूट यहां हो रही है। उन्होंने चेताया है मामले में जल्द कार्रवाई नहीं हुई तो कोर्ट की शरण में जाएंगे। राजपूत समाज के कार्यक्रम में न बुलाए जाने पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि वे असली राजपूत हैं और भगवान राम के वंशज हैं, लेकिन उन्हें इस कार्यक्रम में नहीं बुलाया गया। उन्होंने कहा कि करणी सेना की मांगे जायज हैं, सरकार को इन पर गंभीर फैसला लेना चाहिए।