luxury audi car fraud
luxury audi car fraud

भोपाल। हनुमानगंज थाना क्षेत्र में एक युवक ने अपने परिचित युवक को अपनी लग्जरी ऑडी कार बेचने के लिए दी थी। इसके बाद आरोपी कॉर लेकर चम्पत हो गया। अब आरोपी न तो कार लौटा रहा है और न ही उसकी कीमत दे रहा है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अमानत में खयानत का केस दर्ज किया है।

एसआई अयाज चांदा ने बताया कि सिंधी कॉलोनी निवासी मयूर राजदेव पुत्र दीपक(22) घोड़ा नक्कास स्थित अपने जीजा की मोबाइल दुकान पर काम करता है। उसने पिछले दिनों इंदौर से एक ऑडी कार खरीदी थी। कुछ दिन चलाने के बाद उसने 10 जून 2022 को अपने परिचित शमी अली को कार बेचने को दी थी। शमी कार लेकर ग्राहक को दिखाने गया। इसके बाद शमी ने मयूर को बताया कि कार का एक्सिडेंट हो गया है और पुलिस ने कार जब्त कर ली है। कार को छुड़ाने के लिए कार के दस्तावेज लगेंगे। इस पर मयूर ने उसे कार के दस्तावेज भी दे दिए।

कुछ दिन बाद जब उसने कार वापस मांगी तो शमी अली ने कहा कि मैं कार के 2.80 रूपए दे दूंगा। लेकिन उसने अब तक न तो कार वापस की और न ही उसकी कीमत चुकाई। तंग आकर फरियादी ने थाने में शिकायत की थी। जिसकी जांच के बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

Bhopal Crime: ट्रैक्टर मैकेनिक ने फांसी लगाकर दी जान, पेड़ पर लटका मिला शव

आरोपी ने पिता के नाम आवंटित पार्लर का किया सौदा

भोपाल। सिंधी कॉलानी स्थित एक सांची पार्लर बेचने के नाम पर 11 लाख की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। आरोपी ने अपने पिता के नाम पर आवंटित शासकीय संपत्ति को फर्जी दस्तावेज तैयार कर एक महिला को बेच दी। पुलिस ने फरियादिया की शिकायत पर धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है।

एसआई अयाज चांदा ने बताया कि गांधी नगर रोड, एयरपोर्ट तिराहा निवासी वैशाली पति सुखदेव पाटिल(33) गृहणी हैं। उनकी सिंधी कॉलोनी स्थित सांची पार्लर के संचालक जहीराम धनवानी के बेटे कमलेश धनवानी से जान पहचान थी। इस दौरान कमलेश से उन्होंने सांची पार्लर खरीदने की इच्छा जाहिर की थी। इस पर कमलेश ने अपने पिता का सांची पार्लर 11 लाख रूपए में देने को कहा। इसके बाद अप्रैल 2022 में कमलेश ने अपने सांची पार्लर के फर्जी दस्तावेज तैयार कर अपने पिता के फर्जी हस्ताक्षर कर वैशाली पाटिल को 11 लाख रूपए में बेच दिया।

जबकि सांची पार्लर शासकीय संपत्ति है जो कि आरोपी के पिता के नाम पर आवंटित है। इस बात का खुलासा होने पर फरियादिया ने थाने में लिखित आवेदन देकर शिकायत की थी। जिसकी जांच के बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी समेत विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है।