lab technician strike
lab technician strike

भोपाल। मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पतालों के लैब टेक्निशियन अपनी 13 सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। सरकारी अस्पतालों में आज से जांच नहीं होगी।  लैब टेक्निशियन के हड़ताल पर रहने से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि जब तक मांगों का समाधान नहीं होता तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

लैब टेक्नीशियन अपनी मांगों को लेकर इंदौर के लेब टेक्नीशियन CMHOऑफिस पहुंचे और विरोध प्रदर्शन किया। इनकी अनिश्चितकालीन हड़ताल से प्रदेश के सभी जिला अस्पताल, मेडीकल कॉलेज की स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित होने की आशंका है। इनके हड़ताल पर होने के कारण अस्पतालों में लैब से संबंधित सारे कामकाज ठप रहेंगे और मरीजों को असुविधा का सामना करना पड़ सकता है।

मांगें पूरी नहीं होने तक हड़ताल जारी रखेंगे-

कर्मचारियों ने कहा है कि सरकार के सामने बार बार मांगें रखने पर भी कोई कारगर कदम नहीं उठाया गया है, इसी कारण अब वो अपनी मांगें पूरी नहीं होने तक हड़ताल जारी रखेंगे। इसके पूर्व संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने विभिन्न मांगों को लेकर पड़ताल पर चले गए थे। कर्मचारियों में फूट होने के कारण उनकी मांगे अधूरी रह गई वहीं हड़ताल भी लगभग खत्म सा हो गया है।

आठवां भारतीय अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 21 से

हिंदी पर होंगे शोध, 22 भाषाओं को सीखने समझने का मिलेगा मौका

भोपाल। हिंदी प्रेमियों और विद्यार्थियों के लिए काम की खबर है। राजधानी स्थित अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय में जल्द ही हिंदी भाषा प्रयोगशाला की सुविधा मिल सकेगी। इस प्रयोगशाला में विद्यार्थी शोध के साथ-साथ हिंदी में अच्छे से उच्चारण कर सकेंगे।

इसके अतिरिक्त यहां भारत की 22 भाषाओं के व्याकरण और उच्चारण को देखा व समझा जा सकेगा। हिंदी विवि में तैयार हो रही इस प्रयोगशाला लिए एक साफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है। प्रयोगशाला के लिए हिंदी व्याकरण व उच्चारण से जुड़े वीडियो व आडियो तैयार किए जा रहे हैं। साथ ही प्रादर्शो की मदद से हिंदी भाषा की वैज्ञानिकता, उच्चारण की बारीकियों और कई ऐसी बातों की जानकारी दी जाएगी, जो हिंदी माध्यम से पढ़ाई के बावजूद कई बार विद्यार्थियों को पता नहीं होती। प्रयोगशाला में इन आडियो व वीडियो और प्रादर्श को समझाने के लिए विशेषज्ञ भी रहेंगे, जो शोधार्थियों को भाषा की बारीकियों से अवगत कराएंगे।

35 लाख रूपए लागत से तैयार होगी विवि में हिंदी भाषा प्रयोगशाला –

करीब 35 लाख रूपए की लागत से यह प्रयोगशाला तैयार होगी। इसके लिए विश्वविद्यालय में कार्यपरिषद की बैठक में बजट पर भी स्वीकृति मिल गई है। विश्वविद्यालय की ओर से विशेषज्ञों को कई प्रयोगशालों का भ्रमण कराया जा रहा है, ताकि वहां के माडल को समझकर यहां तैयार किया जा सके। साल अंत तक इस प्रयोगशाला के शुरू होने और विद्यार्थियों को इसकी सुविधा मिलने की संभावना है। विवि का दावा है कि यह देश में अपनी तरह की अनूठी हिंदी भाषा की प्रयोगशाला होगी।