भोपाल। मध्य प्रदेश में एक बार फिर मौसम में बदलाव देखने को मिला है। फिलहाल कड़ाके की सर्दी से तो राहत मिल गई है, लेकिन आसमान में फिर से बादल छा गए हैं। इसके साथ ही ग्वालियर-चम्बल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं हल्की बारिश भी हुई। मौसम विभाग के मुताबिक, बुधवार से भोपाल, इंदौर, उज्जैन, सागर, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बारिश होने के आसार हैं। बादलों के कारण दिन के तापमान में गिरावट भी होगी।

दक्षिणी हो गया हवाओं का रुख

भोपाल मौसम केन्द्र से मिली जानकारी जानकारी के मुताबिक, अलग-अलग स्थानों पर सक्रिय तीन मौसम प्रणालियों के असर से हवाओं का रुख दक्षिणी हो गया है। हवा के साथ नमी आने के कारण बादल छाने लगे हैं। मंगलवार को ग्वालियर और चंबल के शहरों में कहीं-कहीं बूंदाबूंदी हुई। मौसम वैज्ञानिकों ने बुधवार को कई जिलों में बारिश की संभावना जताई है। छतरपुर, टीकमगढ़, निवाड़ी के साथ मालवा के शाजापुर, आगर, मंदसौर और नीमच में हल्की बारिश हो सकती है। बारिश का दौर 28 जनवरी तक चलेगा। ग्वालियर-चंबल संभाग के साथ छतरपुर, टीकमगढ़ और निवाड़ी जिलों में गरज के साथ बिजली गिरने या चमकने की संभावना भी है।

Pathaan: भोपाल सहित प्रदेशभर में प्रदर्शन और नारेबाजी, बंद करने पड़े टिकट काउंटर

यह रहा तापमान

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार को प्रदेश में सबसे अधिक 32.7 डिग्री सेल्सियस तापमान उमरिया में दर्ज किया गया। सुबह गुना, रतलाम, शिवपुरी और छतरपुर जिले में हल्के से मध्यम कोहरा रहा। न्यूनतम तापमान ग्वालियर संभाग में काफी बढ़े एवं शेष संभागों में कोई विशेष परिवर्तन नहीं हुआ। न्यूनतम तापमान रीवा और सागर संभाग में सामान्य से विशेष रूप से अधिक रहा। भोपाल, ग्वालियर, नर्मदापुरम और शहडोल संभाग में सामान्य से काफी अधिक रहे। शेष संभागों में सामान्य से अधिक रहे।

वरिष्ठ मौसम विशेषज्ञ अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान के आसपास हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में बना हुआ है। राजस्थान पर एक प्रेरित चक्रवात मौजूद है। इसके अतिरिक्त एक प्रति चक्रवात पश्चिम बंगाल के आसपास बना हुआ है। बादल बने रहने और उत्तरी हवा नहीं चलने के कारण पूरे प्रदेश में रात के तापमान में बढ़ोतरी हो गई है। साथ ही कहीं-कहीं हल्की वर्षा भी हो रही है।