Pravasi Bhartiya Sammelan : प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में आयोजित 17वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुबह 9.50 बजे इंदौर पहुंचे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल सहित वरिष्ठ नेताओं ने उनका स्वागत किया।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वतंत्रता संग्राम में प्रवासी भारतीयों के योगदान पर आधारित डिजिटल प्रदर्शनी का उद्घाटन करेंगे। दोपहर 1 बजे से लंच रखा गया है, जिसे स्वयं पीएम मोदी होस्ट करेंगे। इसके साथ ही दोपहर 12 से 1 बजे तक पीएम की अलग-अलग देशों के राष्ट्रपति से मुलाकात होगी। दोपहर 1 बजे हाईपावर लंच के बाद दोपहर 2 बजे बाद पीएम मोदी दिल्ली रवाना हो जाएंगे।

विदेशों में होगा फ्रेंड्स ऑफ़ चैप्टर का विस्तार

इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर पहुंचे प्रवासी भारतीयों का वेलकम करते हुए कहा है कि आप सब अपनी मेहनत व परिश्रम से अपने देश एवं प्रदेश से हजारों किलोमीटर दूर जाकर भी अलग आयाम गढ़ रहे हैं और अलग-अलग देशों में भारतीय प्रतिभा और मेधा से अलग छाप छोड़ रहे हैं। अगर प्रवासी भारतीय अपने हाथ समेट लें तो दुनिया का काम नहीं चल सकता।

उन्होंने कहा कि जहां-जहां मध्यप्रदेशवासी हैं, वहां फ्रेंड्स ऑफ़ एमपी चैप्टर का विस्तार किया जाएगा। इन तीन दिनों में इसकी रणनीति बनाई जाएगी। फ्रेंड्स ऑफ़ एमपी की एग्जीक्यूटिव कमेटी का भी गठन किया जाएगा। देश के अलग-अलग हिस्सों से आए फ्रेंड्स ऑफ़ एमपी के लीडर्स और डेलीगेट्स का मध्यप्रदेश की साढ़े आठ करोड़ जनता की ओर से स्वागत दोनों बाहें फैलाकर करता हूं।

आज ऐतिहासिक गौरवशाली दिन

मध्यप्रदेश देश का दिल है और आप मध्यप्रदेश के दिल के टुकड़े हैं। प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में पहुंचे सभी अतिथियों का वे हार्दिक स्वागत करते हैं। सीएम चौहान ने कहा कि आज का गौरवशाली दिन मध्यप्रदेश के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज किया जाएगा। प्रवासी भारतीय सम्मेलन के साथ ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट भी हो रही है। आप समिट में जरूर शामिल हों और प्रदेश में निवेश करें या निवेशकों को निवेश करने के लिए प्रेरित करें। आप मध्यप्रदेश के ब्रांड एंबेसडर हैं।

प्रवासी भारतीय चिकित्सा शिक्षा, स्वास्थ्य एवं फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री में निवेश करें : मंत्री सारंग

उन्होंने 17वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन में आए नागरिकों के लिए कहा कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन के माध्यम से मध्यप्रदेश की ब्रांडिंग तो ही ही, साथ ही प्रदेश की विशेषताओं और संभावनाओं से भी दुनिया परिचित होगी। बता दें कि, इस सम्मेलन में 70 देशों के 3200 से अधिक प्रवासी भारतीय तीन दिन तक शिरकत कर मध्यप्रदेश में हुए बदलाव के बारे में जानेंगे।