Ranji Trophy : लक्ष्य था 73 रन, फिर हुआ चमत्कार और मिल गई 18 रनों से जीत

Ranji Trophy
Ranji Trophy

नागपुर। क्रिकेट अनिश्चिताओं का खेल है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण रणजी ट्रॉफी में देखने को मिला है। मात्र 73 रनों के लक्ष्य के बाद भी विरोधी टीम को 18 रनों से जीत मिल गई, यानि कि लक्ष्य का पीछा करने वाली पूरी टीम मात्र 54 रनों पर सिमट गई।

बाएं हाथ के स्पिनर आदित्य सरवटे के 11 विकेट की मदद से विदर्भ ने 73 रन के आसान लक्ष्य का पीछा कर रही गुजरात को रणजी ट्रॉफी ग्रुप डी के मैच के तीसरे दिन 54 रन पर समेटकर 18 रन से जीत दर्ज की। विदर्भ ने भारत में प्रथम श्रेणी क्रिकेट के इतिहास के सबसे कम स्कोर का बचाव किया है। इससे पहले बिहार ने दिल्ली को 1948-49 में मात्र 78 रन का लक्ष्य देने के बाद जीत दर्ज की थी।

31 ओवर में सिर्फ 54 रनों पर ऑलआउट हो गई गुजरात की टीम

इसी मैदान पर नौ फरवरी से भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहला टेस्ट खेलना है। मैच में पहले दिन 15 और दूसरे दिन 16 विकेट गिरे। रणजी मैच बगल की पिच पर खेला गया जिस पर टेस्ट नहीं खेला जाना है। गुजरात ने एक विकेट पर छह रन से आगे खेलना शुरू किया और पूरी टीम 31 ओवर में 54 रन पर आउट हो गई। सरवटे ने 15.3 ओवर में 17 रन देकर 6 विकेट लिए।

सरवटे ने मैच में लिए 11 विकेट

पहली पारी में उन्होंने पांच विकेट लिए थे। बाएं हाथ के स्पिनर हर्ष दुबे ने तीन विकेट चटकाए। गुजरात के लिए सिर्फ तीसरे नंबर के बल्लेबाज सिद्धार्थ देसाई ही दोहरे अंक तक पहुंच सके जिन्होंने 18 रन बनाए। विदर्भ ने पहली पारी में 74 रन बनाए थे जबकि गुजरात ने 256 रन बनाकर 182 रन की बढत हासिल की थी। विदर्भ ने दूसरी पारी में 254 रन बनाकर गुजरात को 73 रन का लक्ष्य दिया था।

पंजाब ने मध्यप्रदेश को पारी के अंतर से हराया

मोहाली में एक अन्य मैच में पंजाब ने मध्य प्रदेश को पारी और 122 रन से हराकर बोनस अंक से सात अंक अपनी झोली में डाले। पहली पारी में 443 रन बनाने वाली पंजाब ने सिद्धार्थ कौल के चार विकेट की बदौलत मध्य प्रदेश को पहली पारी में 244 रन पर समेटने के बाद उसे फॉलो ऑन दिया और दूसरी पारी में उसे महज 77 रन पर आउट कर बड़ी जीत दर्ज की। पंजाब के लिए अर्शदीप सिंह ने 30 रन देकर चार विकेट, मयंक मार्कंडे ने 19 रन देकर तीन विकेट और सिद्धार्थ कौल ने 11 रन देकर दो विकेट प्राप्त किए।

चंडीगढ़ ने हासिल की रेलवे पर बढ़त

चंडीगढ़ में घरेलू टीम ने मनन वोहरा (126 रन) और गौरव पुरी (नाबाद 102 रन) के शतकों और कुणाल महाजन (83 रन) के अर्धशतक से स्टंप तक पहली पारी में आठ विकेट गंवाकर 485 रन बना लिए। इससे चंडीगढ़ ने रेलवे पर पहली पारी की बढ़त हासिल की जिसने पहले खेलते हुए 386 रन बनाए थे। जम्मू में जम्मू कश्मीर की टीम ने अभिनव पुरी (121 रन) के शतक तथा चार बल्लेबाजों के अर्धशतक से पहली पारी छह विकेट पर 446 रन पर घोषित की। इसके बाद उसने 37 ओवर में स्टंप तक त्रिपुरा के 76 रन तक चार विकेट झटक लिए थे जिसके लिए बिक्रम दास 39 और सुभम घोष 23 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे हैं।