रणजी ट्रॉफी के इतिहास में जो आज तक नहीं हुआ वो उनादकट ने कर दिखाया

दिल्ली खिलाफ पहले ही ओवर में ली हैट्रिक

jaydev unadkat
jaydev unadkat

नई दिल्ली । भारतीय टीम जब बांग्लादेश के दौर पर थी तो एक खिलाड़ी की सबसे ज्यादा चर्चा हो रही थी। यह खिलाड़ी थे जयदेव उनादकट (Jaydev Unadkat), जिन्होंने 12 साल बाद टीम इंडिया में वापसी की थी। बांग्लादेश दौरे पर उनादकट का प्रदर्शन शानदार रहा था। इस दौरे के बाद वे एक बार फिर अपनी घरेलू टीम सौराष्ट्र से जुड़ गए। वे सौराष्ट्र टीम के कप्तान भी हैं। इस दौरान उन्होंने वो कर दिखाया जो रणजी ट्रॉफी (ranji trophy) के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ था।

दिल्ली खिलाफ पहले ही ओवर में ली हैट्रिक

रणजी ट्रॉफी 2022-23 (ranji trophy match) में सौराष्ट्र और दिल्ली (Delhi) के बीच मुकाबला खेला जा रहा है। इस मुकाबले के पहले ही ओवर में सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव उनादकट ने पहले ओवर में ही हैट्रिक (first-over hat-trick) लेकर धमाल मचा दिया है। उनादकट ने हैट्रिक के जरिये दिल्ली के कप्तान यश ढुल समेत तीन बल्लेबाजों को जीरो पर ही पवेलियन लौटा दिया है।

12 साल बाद की थी टीम इंडिया में वापसी

जयदेव उनादकट ने 12 साल बाद भारतीय टेस्ट टीम में वापसी की थी। उन्होंने हाल ही में बांग्लादेश के खिलाफ दूसरा टेस्ट मैच खेला था और तीन विकेट झटके थे। अब बांग्लादेश दौरे के बाद उनादकट वापस डोमेस्टिक क्रिकेट में लौट आए हैं और आते ही उन्होंने धमाल मचा दिया है। दिल्ली के खिलाफ पहले ही ओवर में जयदेव उनादकट ने हैट्रिक लेने का कारनामा कर दिखाया है।

ऐसे बनाई हैट्रिक

जयदेव उनादकट ने पहले ओवर की तीसरी गेंद पर दिल्ली के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले ध्रुव शौरी को पवैलियन की राह दिखाई। उनादकट ने शौरी को क्लीन बोल्ड किया। इसके बाद अगली ही गेंद पर वैभव रावल उनादकट का शिकार बने। उनादकट की गेंद पर हार्विक देसाई ने रावल का कैच लपका। रावल ने पिछले मैच में तमिलनाडु के खिलाफ नाबाद 95 रन बनाए थे। इसके बाद उनादकट ने दिल्ली के कप्तान यश ढुल का शिकार कर अपना हैट्रिक पूरा किया। यश ढुल को उनादकट ने एलबीडब्ल्यू आउट किया। जयदेव उनादकट ने तीनों विकेट पारी के पहले ही ओवर में लिया। तीनों ही बल्लेबाजी जीरो पर आउट हुए।

रणजी ट्रॉफी के पहले ही ओवर में हैट्रिक लेने वाले गेंदबाज

जयदेव उनादक रणजी ट्रॉफी के पहले ही ओवर में हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए हैं। वहीं, इरफान पठान टेस्ट क्रिकेट में पहले ही ओवर में हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज रह चुके हैं।

12 साल बाद टेस्ट में वापसी कर बनाया था अनोखा रिकॉर्ड

बता दें कि बांग्लादेश के खिलाफ 12 साल बाद जयदेव उनादकट ने भारतीय टेस्ट टीम में वापसी की थी। उनादकट ने साल 2010 में सेंचुरियन में साउथ अफ्रीका के खिलाफ अपना इकलौता टेस्ट मैच खेला था और उस टेस्ट में उन्हें कोई विकेट नहीं मिला था। जयदेव उनादकट ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे मैच के लिए मैदान पर उतरने के साथ ही एक अनोखा रिकॉर्ड बना लिया था। दो टेस्ट मैचों के बीच में उनादकट ने भारत के लिए 118 टेस्ट नहीं खेले, जो भारत के लिए किसी खिलाड़ी का दो टेस्ट मैचों के बीच सबसे लंबा अंतराल है। उनादकट ने इस मामले में दिनेश कार्तिक को पीछे छोड़ दिया था। कार्तिक ने 87 टेस्ट मैचों से बाहर रहने के बाद वापसी की थी।