विदेशी यूनिवर्सिटियों के साथ मिलकर देश के कई विश्वविद्यालय देंगे डिग्री, जानें डिटेल्स

Indian & Foreign University Collaboration: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) द्वारा विदेशी विश्वविद्यालयों के साथ मिलकर संयुक्त और ड्यूल डिग्री शुरू करने की सहमति दे दी है. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अध्यक्ष प्रो. एम जगदीश कुमार का कहना है कि 48 विश्वविद्यालयों ने विदेशी यूनिवर्सिटी के साथ संयुक्त और ड्यूल डिग्री की पढ़ाई करवाने के लिए सहमति दी है.

वहीं, अन्य विश्वविद्यालय द्वारा इस पर कार्य किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि यूजीसी विनियम 2022 के तहत भारतीय और विदेशी विश्वविद्यालय एक लिखित समझौते के तहत ड्यूल और संयुक्त डिग्री प्रदान करेंगे.

समझौते में एडमिशन फीस, कोर्स, सिलेबस, वीजा, इंटर्नशिप प्लेसमेंट से लेकर अन्य शर्तें शामिल की गई हैं. अब देश के विद्यार्थियों को विदेशी यूनिवर्सिटी की डिग्री प्राप्त करने का मौका मिलेगा. जबकि विदेशी छात्र भी भारत आकर पढ़ाई कर सकेंगे.

ट्विन प्रोग्राम

ट्विन प्रोग्राम में छात्र को कुछ कोर्स में एक दो या तीन सेमेस्टर की पढ़ाई विदेशी विश्वविद्यालय में जाकर करनी होगी. यह एक तरह का स्टूडेंट एक्सचेंज कार्यक्रम होगा. इसमें 30 प्रतिशत कोर्स या क्रेडिट विदेशी विश्वविद्यालय से प्राप्त करने होंगे.

जॉइंट डिग्री

जॉइंट डिग्री में एक भारतीय और एक विदेशी विश्वविद्यालय मिलकर डिग्री प्रोग्राम चलाएंगे. इसमें डिग्री भारतीय यूनिवर्सिटी की होगी. साथ ही दोनों विश्वविद्यालयों का नाम और लोगो होगा. इसमें 30-30 फीसदी क्रेडिट दोनों विश्वविद्यालयों का होगा.

ड्यूल डिग्री

इसमें एक डिग्री भारतीय और दूसरी विदेशी विश्वविद्यालय होगी. दोनी विश्वविद्यालय डिग्री प्रोग्राम की पढ़ाई करवाएंगे. इसमें दोनों ही विश्वविद्यालय अलग-अलग डिग्री जारी करेंगे. इसमें भी दोनों प्रोग्राम में 30 या उससे अधिक क्रेडिट स्कोर प्राप्त करना होगा.