श्रीकांत और लक्ष्य सेन विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचे, प्रकाश पादुकोण के क्लब में हुए शामिल

नीदरलैंड के खिलाड़ी को हराने के बाद खुशी मनाते किदांबी श्रीकांत।

ह्यूएल्वा। स्टार भारतीय शटलर किदांबी श्रीकांत और गैर वरीय खिलाड़ी लक्ष्य सेन स्पेन के शहर ह्यूएल्वा में चल रही विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं। इसके साथ ही इन दोनों खिलाड़ियों ने इस स्पर्धा में भारत के लिए 2 पदक पक्के कर लिए हैं। शनिवार को श्रीकांत और लक्ष्य के बीच सेमीफाइनल मुकाबला खेला जाएगा।

लक्ष्य सेन और किदांबी श्रीकांत प्रकाश पादुकोण और साई प्रणीत के बाद विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले तीसरे और चौथे खिलाड़ी होंगे। प्रकाश पादुकोण ने 1983 में विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था। वहीं साई प्रणीत ने 2019 में भारत के लिए कांस्य पदक जीता था। अब लक्ष और श्रीकांत में से जो भी खिलाड़ी फाइनल में पहुंचेगा वह एक नया इतिहास रचेगा। इन दोनों खिलाड़ियों में से जो भी फाइनल में पहुंचेगा उसका कम से कम रजत पदक तो पक्का है। मतलब विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में रजत या स्वर्ण पदक जीतने वाला पहला पुरुष खिलाड़ी भारत को मिलने वाला है।

पूर्व नंबर एक और 12वीं वरीय श्रीकांत ने शुक्रवार को नीदरलैंड्स के मार्क कालजोऊ को सीधे सेटों में 21-8, 21-7 से हराया। गैर वरीय लक्ष्य ने चीन के जुन पेंग झाओ को एक घंटे सात मिनट तक में 21-15, 15-21, 22-20 से हराया। वहीं भारत के लिए पदक की सबसे बड़ी दावेदार मानी जा रही पीवी सिंधु क्वार्टर फाइनल में विश्व की नंबर 1 खिलाड़ी ताइवान की  ताई जू यिंग ने पीवी सिंधु को  21-17, 21-13 से हराया। दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने 2019 में यह खिताब जीता था और 2020 में कोरोना महामारी के कारण टूर्नामेंट हुआ नहीं था।