सारांश संवाददाता, भोपाल।
मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव के लिए टिकट वितरण के साथ बगावत का सिलसिला भी शुरू हो गया है। टिकट वितरण के बाद कई पार्टियों के कार्यकर्ताओं न सिर्फ निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया, बल्कि पार्टी वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। दरअसल, पार्षद प्रत्याशी का टिकट कटने से कई भाजपा कार्यकर्ता नाराज हैं और नाराजगी के चलते वे अब पार्टी के खिलाफ खुलकर बगावत पर उतर आए हैं।

सांसद के घर के सामने प्रदर्शन
भोपाल में शनिवार को सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बंगले पर कई लोग विरोध करने पहुंच गए और जमकर नाराजगी जाहिर की। वार्ड 56 से पूर्व बीजेपी पार्षद केवल मिश्रा का टिकट कटने से नाराज उनके समर्थक सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बंगले पहुंचे। बाहरी व्यक्तियों को टिकट देने से नाराज समर्थक इस्तीफा देने की बात कर रहे हैं। समर्थकों से फोन पर सांसद ने बात कर कहा वे उनके साथ है पार्टी के नियमों को ताक पर रखकर टिकट दिए गए हैं।

कांग्रेस में भी दिख रहा विरोध
वहीं, कांग्रेस की लिस्ट जारी होते ही विरोध भी शुरू हो गया। रात में ही वार्ड 41 में कांग्रेसियों ने सड़क पर उतरकर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, मनोज शुक्ला और जिलाध्यक्ष कैलाश मिश्रा के विरोध में नारे भी लगाए। बताया जा रहा है कि टिकट नहीं मिलने से नाराज कई पार्षद इस्तीफा देंगे। इनमें शाहिद अली, शबाना अली, रेहान गोल्डन, अब्दुल शफीक, नज्म अंसारी आदि शामिल है। पूर्व नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीर भी टिकट कटने से नाराज है। वे भी विरोध जता रहे हैं।

नर्मदापुरम में धरने शुरू
नर्मदापुरम में वार्ड नंबर 30 ग्वालटोली निवासी रेखा यादव आधा दर्जन महिलाओं के साथ भाजपा जिला कार्यालय के बाहर धरने पर बैठी हैं। भाजपा नेत्री रेखा यादव का कहना है कि 12 साल से काम कर रही हैं। लेकिन मेरा टिकट काट उस व्यक्ति को टिकट दिया। मैं जमीनी स्तर से वार्ड में मेहनत कर रही हूं। मैं चाहती हूं कि मुझे टिकट मिले। नर्मदापुरम में वार्ड नंबर 15 से भाजपा नेत्री वंदना शर्मा, वंदना करोड़े भी निर्दलीय नामांकन जमा कर चुकी हैं।

बीना में भाजपाइयों ने फूंका पुतला
गणेश वार्ड से भाजपा ने गौरीशंकर राय को टिकट दिया है। विधायक महेश राय के खास माने जाने वाले राजा बाबू सिंह यादव इस निर्णय से इतने आक्रोशित हुए कि उन्होंने प्रत्याशी गौरीशंकर राय के विरोध में पुतला दहन कर दिया। गणेश वार्ड में रहने वाले नंदकिशोर चौधरी ने बताया कि वह भाजपा से टिकट के दावेदारों में थे। भाजपा ने बाहरी प्रत्याशी को टिकट दे दिया। अब वह निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे।

इधर, मुरैना से भाजपा की लंबे समय से सक्रिय कार्यकर्ता रहीं ललिता जाटव ने पार्टी से बगावत करते हुए उसका दामन छोड़ दिया है। यह कदम उनको पार्टी द्वारा महापौर का टिकट न दिए जाने के कारण उठाया जाना बताया जा रहा है। उन्होंने आम आदमी पार्टी पर भरोसा जताया है और पार्टी ने भी उन्हें महापौर का टिकट दे दिया है। बता दें, कि ललिता जाटव के साथ ही उनके पति पवन जाटव व उनके स्वसुर अजीत जाटव सहित अन्य कार्यकर्ताओं ने भाजपा को अलविदा कह दिया है। उन्होंने आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया है।

निर्दलीय भरा महापौर के लिए नामांकन

कटनी में दो बार से भाजपा की पार्षद और वर्तमान में भाजपा महिला मोर्चा की जिला मंत्री प्रीति संजीव सूरी ने अपनी ताकत दिखाई और जुलूस के रूप में पहुंचकर महापौर पद के लिए निर्दलीय नामांकन दाखिल किया। सतना में भी भाजपा के पूर्व नगर अध्यक्ष एवं जिला उपाध्यक्ष रहे मनसुख पटेल ने निर्दलीय नामांकन दाखिल कर दिया है।