देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी का पार्थिव शरीर उनके आवास पर पहुंचा

नई दिल्ली। तमिलनाडु में सैन्य हेलिकॉप्टर दुर्घटना में 11 अन्य लोगों के साथ जान गंवाने वाले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत का शव शुक्रवार को उनके आवास पर पहुंचा। उनके अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में लोग आवास पर भी जमा हो गए। जनरल रावत और उनकी पत्नी का अंतिम संस्कार दिल्ली कैंट के बरार स्क्वायर में होगा।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ब्रिगेडियर एल.एस. दाह संस्कार से पहले दिल्ली कैंट के बरार स्क्वायर में हरियाणा के मुख्यमंत्री एम.एल. खट्टर ने बरार स्क्वायर पर ब्रिगेडियर लिद्दर को भी श्रद्धांजलि दी। गुरुवार शाम जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य सशस्त्र बलों के जवानों के पार्थिव शरीर को पालम हवाई अड्डे पर लाया गया।

भारतीय वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वी.आर. चौधरी सभी मृतकों के पार्थिव शरीर को लेकर आए। इससे पहले दिन में पार्थिव शरीर को वेलिंगटन से सुलूर ले जाया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पालम हवाई अड्डे पर जनरल रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सशस्त्र बलों के जवानों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने शोक संतप्त परिवारों से भी मुलाकात की। प्रधानमंत्री से पहले रक्षा मंत्री सिंह भी एयरपोर्ट पहुंचे और सभी मृतकों के परिजनों से मुलाकात कर उनके प्रति संवेदना व्यक्त की।