फुंके हुए कारतूसों की यहां हो रही निलामी, मिल सकते हैं करोड़ों रुपए

रांची: फुंके हुए कारतूस कासे अक्सर कबाड़ मानकर फेंक दिया जाता है। पर क्या आपको पता है कि ये कितने कीमती होते हैं। इसकी कीमत का सही अंदाजा झारखंड पुलिस ने लगा लिया और इन कारतूसों को फेंकने की बजाय सहेज कर रखा। अब वे इसे नीलाम कर रहे हैं।

राज्य के पुलिस महकमे ने पिछले कुछ सालों के दौरान 79512 किलोग्राम कारतूस के खोखे इकट्ठा किये हैं। इन्हें रांची के होटवार स्थित पुलिस के भंडार गृह में रखा गया है। इनमें से 78600 किलोग्राम खोखे पीतल के हैं, जबकि 912 किलोग्राम खोखे लोहे के हैं। पुलिस ने इनकी नीलामी के लिए टेंडर निकाला है।

बताया गया कि ये खोखे पुलिस ने आपराधिक गिरोहों एवं नक्सलियों से मुठभेड़ के बाद सर्च ऑपरेशन और पुलिस बलों द्वारा फायरिंग प्रैक्टिस के बाद इकट्ठा किये गये हैं। फायरिंग प्रैक्टिस के दौरान जितनी गोलियों का उपयोग होता है, उनके खोखे गिनकर रखे जाते हैं। मुठभेड़ के बाद भी प्रत्येक खोखे की बरामदगी का पुलिस हिसाब रखती है। 2015 से लेकर अब तक इकट्ठा किये गये खोखे की अब नीलामी की जा रही है। नीलामी के लिए 29 दिसंबर की तारीख तय की गयी है। झारखंड पुलिस के आईजी प्रोविजन प्रभात कुमार की ओर से जारी टेंडर नोटिस में कहा गया है कि 22 एवं 23 दिसंबर को पांच लाख रुपये के ड्राफ्ट के साथ टेंडर भरा जा सकता है। इसके पहले झारखंड पुलिस ने 2015 में लगभग 600 क्विंटल खोखे की नीलामी की थी।

पीतल के मौजूदा बाजार भाव की बात की जाये तो यह लगभग 400 रुपये प्रति किलोग्राम है। जाहिर है, अगर बाजार भाव से पीतल के खोखों की नीलामी हुई तो झारखंड पुलिस को 3 करोड़ से भी ज्यादा का राजस्व प्राप्त हो सकता है।