UP Assembly Election 2022: इस बार फिर भाजपा की वापसी पर पहले से कम सीटों के साथ- सर्वे

नई दिल्ली। यूपी में चुनावी दंगल से ठीक पहले भाजपा के लिए एक अच्छी और एक बुरी खबर दोनों है। एबीपी न्यूज-सीवोटर के तीसरे जनमत सर्वे की मानें तो इस बार चुनाव का चुनाव भाजपा के लिए उतना आसान नहीं होगा। भाजपा सरकार की यूपी में वापसी तो होगी पर सीटों की संख्या घटेगी। हालांकि इन सबसे परे सच्चाई तो वाटरों के पास है जिसे वे वोटिंग के दिन ईवीएम मशीन में बंद कर देंगे।

सर्वेक्षण के निष्कर्ष यह भी बताते हैं कि भारत के राजनीतिक रूप से सबसे महत्वपूर्ण राज्य में चुनावी मुकाबला द्विध्रुवी हो रहा है और लड़ाई मुख्य रूप से भाजपा और समाजवादी पार्टी (सपा) के बीच है। राज्य के अन्य राजनीतिक खिलाड़ी – बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और कांग्रेस चुनावी मुकाबले में हाशिये पर जाते दिख रहे हैं।

वर्तमान अनुमान 13 नवंबर से 9 दिसंबर तक संभावित मतदाताओं सहित 18 प्लस वयस्कों के बीच आयोजित सीवोटर दैनिक ट्रैकिंग सर्वेक्षण पर आधारित हैं। जनमत सर्वेक्षण के निष्कर्षो के अनुसार, सत्तारूढ़ भाजपा के गठबंधन सहयोगियों के साथ गठबंधन में अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनावों में 40.4 फीसदी वोट हासिल होने की उम्मीद है। विशेष रूप से, भाजपा ने राज्य में पिछले कुछ चुनावों में लगातार 40 फीसदी से अधिक के अपने वोट शेयर को बनाए रखा है। 2017 के विधानसभा चुनावों में पार्टी ने राज्य में हुए कुल वोटों का 41.4 फीसदी हासिल किया था। राज्य में अन्य राजनीतिक खिलाड़ियों के वोट शेयर के लिए, जबकि एसपी के वोट शेयर में 2017 में 23.6 फीसदी से 2022 में 33.6 फीसदी की वृद्धि होने की उम्मीद है, बसपा के वोट शेयर में गिरावट की संभावना है। 2017 में 22.2 फीसदी से 9 फीसदी से 2022 में 13.2 फीसदी तक। देश की सबसे पुरानी पार्टी – कांग्रेस, 1989 से राज्य में सत्ता से बाहर है, जिसे 7.3 फीसदी वोट मिलने की उम्मीद है, पार्टी को 2017 में 6.3 फीसदी वोट मिले थे।

सीटों में तब्दील भाजपा और उसके गठबंधन सहयोगियों को आगामी विधानसभा चुनावों में 212 से 224 के बीच सीटें मिलने की संभावना है। हालांकि भाजपा और उसके गठबंधन सहयोगी 2017 में जीती गई 325 सीटों के आंकड़े से लगभग 100 सीटों की गिरावट देखेंगे, लेकिन गठबंधन को बहुमत के आंकड़े को आराम से पार करने की उम्मीद है। सत्तारूढ़ भाजपा के लिए प्रमुख चुनौती के रूप में उभर रही सपा और उसके सहयोगियों के 151 से 163 सीटों पर कब्जा होने की उम्मीद है।

सर्वेक्षण स्पष्ट रूप से बताता है कि राज्य में लगातार राजनीतिक आधार खो रही बसपा 12 से 24 सीटों पर जीत हासिल कर सकती है। कांग्रेस पार्टी के 6 से 10 सीटों पर जीत दर्ज करने की संभावना है। उत्तर प्रदेश विधानसभा में कुल 403 सीटें हैं।

सर्वेक्षण के आंकड़ों के मुताबिक, मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य में शीर्ष पद बरकरार रखने के लिए सबसे पसंदीदा विकल्प हैं। सर्वेक्षण के दौरान, 41.0 फीसदी उत्तरदाताओं ने सत्ता बनाए रखने के लिए मौजूदा मुख्यमंत्री के पक्ष में अपनी राय व्यक्त की।

सर्वेक्षण के दौरान साक्षात्कार देने में से 33.5 फीसदी ने कहा कि सपा के अखिलेश यादव शीर्ष पद के लिए उनकी पसंदीदा पसंद हैं, 15.0 फीसदी ने कहा कि वे बसपा सुप्रीमो को राज्य में अगली सरकार का नेतृत्व करते देखना चाहते हैं। दिलचस्प बात यह है कि सर्वेक्षण के दौरान साक्षात्कार में शामिल लोगों में से केवल 4.3 फीसदी ही चाहते थे कि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी राज्य की अगली मुख्यमंत्री बनें।

सर्वेक्षण के दौरान, अधिकांश उत्तरदाताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों द्वारा साल भर के विरोध के अंत की नींव रखने वाले कृषि कानूनों को वापस लेकर सही कदम उठाया है। सर्वेक्षण में भाग लेने वालों में से 52.4 फीसदी ने कृषि कानूनों को निरस्त करने के पीएम के फैसले को सही माना, जबकि 30.7 फीसदी ने कहा कि कृषि कानून को वापस लेने के बजाय, केंद्र सरकार को किसान समुदाय को कृषि कानूनों के लाभों के बारे में समझाने की कोशिश करनी चाहिए थी। 16.9 फीसदी उत्तरदाताओं ने इस मुद्दे पर कोई राय नहीं दी।

इसी तरह, अधिकांश उत्तरदाताओं ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में कृषि कानूनों को वापस लेने से भाजपा को लाभ होगा। सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, नए दौर के जनमत सर्वेक्षणों में उत्तर देने वाले लोगों में से 60.6 फीसदी का मानना है कि प्रधानमंत्री के फैसले से सत्तारूढ़ दल को लाभ होगा, 39.4 फीसदी उत्तरदाताओं ने कहा कि यह भाजपा की चुनावी संभावनाओं के लिए हानिकारक साबित होगा।

2022 के विधानसभा चुनावों से पहले, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव छोटे दलों के साथ गठबंधन कर रहे हैं जो अनिवार्य रूप से जाति-केंद्रित हैं। इनमें जयंत चौधरी का राष्ट्रीय लोक दल और ओ.पी. राजभर के नेतृत्व वाली सुहेलदेव भारत समाज पार्टी (एसबीएसपी) कुछ ही जिलों तक सीमित हैं।

हालांकि, सर्वेक्षण के निष्कर्षो के अनुसार, कई छोटे दलों के साथ गठबंधन के बावजूद अखिलेश यादव योगी आदित्यनाथ सरकार को हटाने में सक्षम नहीं होंगे। सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, जबकि 50.9 फीसदी उत्तरदाताओं ने कहा कि अखिलेश यादव ऐसे गठबंधनों के माध्यम से योगी आदित्यनाथ को पछाड़ नहीं सकते, 42.7 फीसदी इससे सहमत नहीं हैं और 6.3 फीसदी इस तरह के गठजोड़ की संभावनाओं के बारे में अनजान हैं।

सर्वेक्षण के आंकड़ों से पता चलता है कि अधिक संख्या में लोगों का मानना है कि पूर्वाचल एक्सप्रेसवे के उद्घाटन से आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा को फायदा होगा। सर्वेक्षण के दौरान 52.3 फीसदी उत्तरदाताओं ने कहा कि महत्वाकांक्षी परियोजना के श्रेय का दावा करने वाले भाजपा और सपा के बीच वाकयुद्ध छिड़ गया है, लेकिन एक्सप्रेसवे के उद्घाटन से 2022 के विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ पार्टी को लाभ होगा, जबकि 47.7 फीसदी ने अलग राय दी।