वृक्षों को बचाने के लिए 363 विश्नोई हुए थे शहीद, सीएम ने शमी, बेल पत्र और खेजड़ी का पौधा रोपा

भोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आज स्मार्ट उद्यान में शमी, बेलपत्र और खेजड़ी का पौधा लगाया। शहीद अमृता देवी विश्नोई पर्यावरण संरक्षण संस्था के प्रतिनिधियों ने भी पौध-रोपण किया। शहीद अमृता देवी विश्नोई पर्यावरण संरक्षण संस्था एवं अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा प्रति वर्ष संपूर्ण भारत में पौधे लगाने का कार्य करती है। मध्यप्रदेश के हरदा, गाडरवारा, जबलपुर, खातेगाँव में संस्था सक्रिय है। उल्लेखनीय है कि सन् 1730 में अमृता देवी बिश्नोई सहित 363 बिश्नोई खेजड़ी के हरे वृक्षों को बचाने के लिए खेजड़ली जिला जोधपुर राजस्थान में शहीद हुए थे।

मुख्यमंत्री चौहान ने अखिल भारतीय विश्नोई महासभा के अध्यक्ष राजस्थान के देवेन्द्र विश्नोई का शाल पहनाकर सम्मान किया। मुख्यमंत्री चौहान वृक्षारोपण और पर्यावरण संरक्षण की गतिविधियों में संलग्न संस्थाओं के साथ प्रतिदिन पौध-रोपण करते हैं।

आज लगाया गया शमी आयुर्वेद की दृष्टि से अत्यंत गुणकारी माना गया है। साथ ही यज्ञों में शमी वृक्ष की समिधाओं का प्रयोग शुभ माना गया है। बेलपत्र को बिल्व का वृक्ष भी कहा जाता है। अनुसंधान में इसके विभिन्न औषधीय गुणों के बारे में जानकारी मिली है। भगवान शिव को भी श्रद्धापूर्वक बेलपत्र चढ़ाया जाता है। खेजड़ी की लकड़ी मजबूत होती है, जो फर्नीचर बनाने के काम आती है। इसकी जड़ से हल बनता है। इसकी फली से सब्जी बनाई जाती है, जिसे ‘सांगरी’ कहते है।