Bhopal News : नाबालिग से दुष्कर्म के दो आरोपियों को अंतिम सांस तक जेल

न्यायालय ने 2 लाख 6 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया

सारांश न्यूज डेस्क, भोपाल । नाबालिग से दुष्कर्म (Rape of minor) के एक मामले में विशेष न्यायाधीश (poxo) पदमा जाटव की अदालत ने बुधवार दो आरोपियों (Two accused) को अंतिम सांस (last breath)  तक जेल में रखने की सजा सुनाई है।

इसके साथ ही न्यायालय ने दोनो आरोपियों पर कुल 2 लाख 6 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया है। मामले में शासन की ओर से पैरवी टी पी गौतम, विशेष लोक अभियोजक एवं सरला कहार सहायक विशेष लोक अभियोजक द्वारा की गई।

सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी मनोज त्रिपाठी के अनुसार, न्यायालय ने मामले में आरोपी भूरा उर्फ प्रद्युमन और आरोपी कमलेश उर्फ अनुपम उर्फ कम्मू को धारा 363 भादवि में 7 -7 वर्ष व 366 भादवि में 10-10 ”वर्ष, 376(घ) भादवि सहपठित धारा 5जी/6 पाक्सो एक्ट में शेष प्राकृतिक काल तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इसके साथ ही आरोपी भूरा पर 66 हजार व कमलेश पर 1 लाख 40 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया है ।

जान पहचान का फायदा उठाकर दिया घटना को अंजाम

अभियोजन अधिकारी त्रिपाठी के अनुसार, पीडिता ने थाना खजूरी सडक में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि कमलेश यादव नाम का व्यक्ति मेरी मां का परिचित है और मां से मिलने के बहाने घर में आता-जाता था। जब मां काम से बाहर जाती, तो कमलेश घर पर कर मेरे साथ दुष्कर्म करता था।

साथ जाने से मना किया तो दी जान से माने की धमकी 

पीडि़ता के अनुसार, एक दिन रात करीब 9:30 बजे कमलेश घर पर आया और बोला कि चलो तुम्हे न्यूडल्स खिलाने ले चलता हूं। जब जाने से मना किया, वह मां को धमकाने लगा कि तुम्हारी छोटी लड़कियो को जान से खत्म कर दूंगा। जिसके बाद कमलेश मुझे लेकर रेलवे स्टेशन गया। जहां उसका दोस्त भूरा उर्फ प्रद्युमन भी था। वह दोनो मुझे जलसा गार्डन के पीछे सूनसान जगह ले गए और बारी-बारी से कमलेश एवं उसके दोस्त भूरा उर्फ प्रद्युमन ने मेरे साथ गलत काम किया और रात करीब 1:30 बजे घर छोड दिया।

यह भी पढ़ें- फर्जी पुलिस अधिकारी बनकर करता था ठगी, क्राइम ब्रांच ने किया अरेस्ट