Cycle distribution scheme : अभी 40 हजार ट्राइबल बच्चों को मिलेगी साइकिल, बाकी बच्चों को बाद में देंगे

सारांश न्यूज डेस्क, भोपाल
“साइकिल वितरण योजना“ Cycle distribution scheme के तहत सरकार फिलहाल ट्राइबल इलाकों के 40 हजार छात्रों को साइकिल देगी। राज्य सरकार सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छठी और 9वीं क्लास के सभी बच्चों को मुफ्त साइकिल देती है। सरकार ने दो साल कोरोना काल में साइकिल नहीं दी थी, लेकिन फिलहाल आदिवासी क्षेत्रों के विद्यार्थियों को साइकिल देना तय हुआ है। इधर, स्कूल शिक्ष मंत्री school education minister ने भरोसा जताते हुए कहा है कि, बाकी बच्चों को साइकिल बाद में देंगे।

बता दें कि, 5.30 लाख साइकिल खरीदी के लिए जुलाई में टेंडर जारी हुआ था। तीन कंपनियों को 5.30 लाख बच्चों के लिए साइकिल सप्लाई का ऑर्डर जारी किया गया था, लेकिन ऐन मौके पर विभाग ने बजट की कमी बताकर आदिवासी क्षेत्रों के लिए ही महज 40 हजार साइकिलें खरीदना तय किया है। करीब 15 करोड़ में 40 हजार साइकिल आएंगी। बताया जा रहा है कि बालाघाट, बैतूल, छिंदवाड़ा, होशंगाबाद, सिवनी, मंडला, श्योपुर, अलीराजपुर, बड़वानी, धार, झाबुआ, खंडवा, खरगोन, अनूपपुर, डिंडोरी, शहडोल, सीधी और उमरिया के आदिवासी ब्लॉक में साइकिल वितरण किया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक पहले साइकिल वितरण योजना के लिए 180 करोड़ रुपए का बजट तय किया गया था। स्कूल शिक्षा विभाग के पास 20 करोड़ रुपए पहले से थे। विभाग ने साइकिल वितरण के लिए 160 करोड़ रुपए अनुपूरक बजट में मांगे थे। विभाग को बजट पास होने की पूरी उम्मीद थी इसीलिए 5.30 लाख साइकिल खरीदने की प्रक्रिया पूरी कर ली। लेकिन, अब अनुपूरक बजट में वित्त विभाग ने इस मद में राशि नहीं दी। ऐसे में शिक्षा विभाग ने अब बचे 20 करोड़ रुपए से ही खरीदी तय की है। करीब 15 करोड़ में 40 हजार साइकिल आएंगी। इन्हें आदिवासी बहुल ब्लॉक में बांटा जाएगा।

बजट नहीं होने के कारण 92 फीसदी से ज्यादा छात्र-छात्राएं जिन्हें योजना का लाभ मिलना था वह इससे वंचित रह जाएंगे। हालांकि, स्कूल शिक्षा मंत्री ने छात्रों को दिलासा दिया है। उन्होंने कहा कि, ’अभी ट्राइबल ब्लॉक के बच्चों को साइकिल मिलेगी। बाकी बच्चों को बाद में देंगे।’