आहार से बदलेगा व्यवहार : आयुर्वेदिक आहार और ऑर्गेनिक फायदों की तरफ बढ़ रहा है प्रदेश

राजधानी में हुआ सेमिनार, गिनाए गए फायदे

सारांश न्यूज़ डेस्क, भोपाल
आहार से ही विचार और विचारों से स्वास्थ्य की कड़ियां जुड़ी हुई हैं। इन सबके तालमेल से एक बेहतर समाज के निर्माण की कल्पना की जा सकती है। बदलते दौर में शुद्धता की कम होती उम्मीदों के बीच आयुर्वेदिक आहार को उम्मीद की एक किरण के रूप में देखा जा रहा है। इसी धारणा को आगे बढ़ाने राजधानी भोपाल में गुरुवार को एक सेमिनार का आयोजन किया गया। विषय विशेषज्ञों ने अपनी बातों के जरिए इस नवाचार को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया।

कॉन्फीडीरेशन ऑफ ऑर्गेनिक फूड प्रोड्यूसर्स एंड मार्केटिंग एजेंसीज द्वारा आयोजित इस सेमिनार का विषय आयुर्वेदिक आहार एंड ऑर्गेनिक मध्यप्रदेश : एडवांटेज फॉर्मर्स था। सेमिनार के दौरान कई वक्ताओं ने मप्र में आयुर्वेदिक आहार की संभावनाओं पर विस्तार से बात की। इस दौरान स्लाइड शो के जरिए भी तथ्यों को प्रस्तुत किया गया।

मंत्रियों ने की वर्चुअल शिरकत
कार्यक्रम के अतिथियों में कृषि मंत्री कमल पटेल और आयुष मंत्री रामकिशोर कावरे शामिल थे। इन दोनों ने ही कार्यक्रम में ऑनलाइन शामिल होकर कार्यक्रम को संबोधित किया। कृषि मंत्री पटेल ने इस आयोजन के लिए शुभकामनाएं देते हुए प्रदेश में इसके उज्जवल भविष्य की कामना की। उन्होंने कहा कि आयुर्वेदिक आहार की संभावनाओं को सरकारी तौर पर और व्यक्तिगत भी इसकी बेहतरी के लिए गंभीर प्रयास करूंगा। मंत्री कावरे ने ऑनलाइन बात करते हुए इस शुरुआत को प्रदेश की सेहत के लिए मील का पत्थर साबित होगा।