PFI के चार संदिग्ध भोपाल कोर्ट में पेश, लेंगे रिमांड पर

Bhopal news: एनआईए और मप्र एटीएस ने सुबह जेपी अस्पताल में कराया मेडिकल, गृह मंत्री ने कहा प्रदेश भर में रखी जा रही संदिग्धों पर नजर 

bhopal news

भोपाल (Bhopal news)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और मध्यप्रदेश एटीएस की संयुक्त कार्रवाई में बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात उज्जैन और इंदौर में छापामार कार्रवाई में पीएफआइ के मप्र चीच सहित पांच संदिग्धों को पकड़ा गया था।

चारों संदिग्धों को लेकर आज सुबह एनआईए और एटीएस की टीम भोपाल पहुंची। चारों संदिग्धों को भोपाल के जय प्रकाश अस्पताल में सुबह दस बजे मेडिकल कराया गया, यहां से सीधे जिला अदालत लेकर पहुंचे। जिला अदालत में चारों को एनआईए के विशेष न्यायाधीश रघुवीश प्रसाद पटेल की अदालत में पेश किय गया है। एनआईए चारों को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी।

प्रदेश के 25 जिलों में नेटवर्क की तलाशी होगी शुरू

वहीं, प्रदेश के 25 जिलों में एनआईए के संदिग्धों व स्लीपर सेल के लोगों के जुड़े होने की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में मप्र पुलिस,एटीएस और अन्य एजेंसियां जल्द ही प्रदेश के उक्त जिलों में कार्रवाई कर सकती हैं। प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि पीएफआई के संदिग्धों पर लगातार नजर रखी जा रही है। प्रदेश में जहां भी इस तरह की सूचना मिलेगी, पुलिस सख्ती से कार्रवाई करेगी।

पीएफआई मप्र चीफ उगलेगा राज

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) द्वारा बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात प्रदेश के इंदौर और उज्जैन जिले में पापुलर फंट आफ इंडिया (पीएफआइ) ठिकानों पर छापामार कारवाई की गई थी।

यह कार्रवाई टेरर फंडिंग हासिल करने और ट्रेनिंग शिविर आयोजित करने के आरोप में हुई थी। छापे के लिए एटीएस और इंटेलिजेंस अफसरों को शामिल कर एनआइए ने पीएफआई के प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल करीम बेकरी सहित चार पदाधिकारियों को गिरफ्तार किया।

अब्दुल करीम सहित चारों आरोपियों को एनआईए रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। अब्दुल करीम से पूछताछ में ही प्रदेश में पीएफआई के नेटवर्क और प्रदेश के जिलों में सक्रिय संदिग्धों का पता चलेगा। आने वाले दिनों में एनआईए, मप्र एटीएस और कार्रवाई कर सकती हैं।