महिला समेत दो नाबालिगों की पिटाई के मामले में मानवाधिकार आयोग ने पुलिस कमिश्नर से मांगा जवाब

पुलिस सब इंस्पेक्टर पर आरोप

सारांश न्यूज डेस्क, भोपाल । मप्र मानव अधिकार आयोग (MP Human Rights Commission) के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन (President Justice Narendra Kumar Jain) ने मानव अधिकार हनन से जुड़े दो मामलों में संज्ञान लेकर संबंधित अधिकारियों से जवाब मांगा है। पहला मामला भोपाल के आयोध्या नगर थाने का हैं।

जहां पदस्थ सब इंस्पेक्टर पर एक महिला और दो नाबालिगों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटने के आरोप लगाए गए हैं। मामले में आयोग ने पुलिस कमिश्नर, भोपाल से एक माह में जवाब मांगा है।आयोग से मिली जानकारी के अनुसार, इंस्पेक्टर विनोद पंथी ड्यूटी पूरी करने के बाद 18 सितम्बर की रात 12 बजे अपने घर जा रहे थे। इस दौरान कुछ युवक जन्मदिन का केक काटकर हल्ला कर रहे थे। पंथी ने उन्हें रोकने के लिए फटकार लगाई, तो नाबालिग युवकों की मां एवं परिजन मौके पर आ गए। दोनों पक्षों में जमकर वाद-विवाद होने लगा।

इस घटना के बाद सीसीटीवी वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें सब इंस्पेक्टर विनोद पंथी महिला एवं उसके दोनों नाबालिग बच्चों को खदेड़कर पीटते नजर आ रहे हैं। पुलिस ने महिला और उसके नाबालिग बेटों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। वहीं जब महिला ने सब इंस्पेक्टर के खिलाफ शिकायत लिखवाने का प्रयास किया, तो उसकी रिपोर्ट नहीं लिखी गई। मामले में अब आयोग ने संज्ञान लिया है।

छात्रा ने नहीं उठाई थाली, शिक्षक ने दिया धक्का

भोपाल के ग्राम गोडीपुरा के एक सरकारी स्कूल में दलित मूक-बधिर छात्रा से शिक्षक द्वारा धक्का देने और इससे छात्रा का हाथ टूटने का मामला सामने आया है। मामले में आयोग ने पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण), कलेक्टर और जिला शिक्षा अधिकारी से दो सप्ताह में जवाब मांगा है। आयोग से मिली जानकारी के अनुसार आरोप हैं कि छात्रा ने जब अपने खाने की थाली खुद नहीं उठाई, तो उसकी टीचर ने उसे तेज धक्का दे दिया। जिससे बच्ची नीचे गिरी और उसका हाथ टूट गया। बच्ची के माता-पिता थाने पहुंचे, तो उन्हें चलता कर शिकायत के करीब चार दिन बाद सीएम हेल्पलाईन में शिकायत करने के बाद ही संबंधित शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें- नाबालिग से दुष्कर्म के दो आरोपियों को अंतिम सांस तक जेल