Bhopal News: लोकायुक्त की टीम ने सिंचाई विभाग के लिपिक को 40 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा

सारांश न्यूज डेस्क, भोपाल । लोकायुक्त की टीम (Lokayukta team) ने बड़ी कार्रवाई की है। गुरुवार को लोकायुक्त की टीम ने सिंचाई विभाग कोलार के कार्यपालन यंत्री कार्यालय (Irrigation Department Kolar’s Executive Engineer Office) में स्थापना शाखा प्रभारी को 40 हजार की रिश्वत (40 thousand bribe) लेते रंगेहाथ पकड़ लिया। लोकायुक्त पुलिस ने यह कार्रवाई एमपीनगर जोन-1 में की है।

लोकायुक्त पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। फरियादी से उसकी मां के जीपीएफ व अन्य राशि के भुगतान के ऐवज में मांगी थी रिश्वत। लोकायुक्त टीम ने एमपीनगर के मिलन रेस्तरां से किया गिरफ्तार। आरोपित को फरियादी से मिलने के लिए मिलन रेस्तरां में बुलाया गया था। जैसे ही फरियादी ने उसे रिश्वत की रकम दी, लोकायुक्त टीम ने उसे पकड़ लिया। इस दौरान आरोपित के हाथ धुलवाए गए तो वह रंगीन हो गए। लोकायुक्त पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।

लोकायुक्त पुलिस के मुताबिक जवाहर चौक इलाके में रहने वाले सिद्धार्थ सक्सेना ने 20 सितंबर को लोकायुक्त एसपी कार्यालय में लिखित शिकायत की थी। इसमें उन्होंने बताया था कि उनकी मां नीना सक्सेना कार्यालय कार्यपालन यंत्री विद्युत यांत्रिकी कोलार रोड भोपाल में ट्रेसर के पद पर पदस्थ थीं, जिनकी मृत्यु विगत जून में हो गई।

आवेदक ने बताया है कि उसकी मां ने सर्विस रिकार्ड में आवेदक को ही नामिनी बनाया है। जब आवेदक ने अपनी स्वर्गीय मां के जीपीएफ और अन्य लाभों के भुगतान के लिए उनके कार्यालय में आवेदन दिया तो वहां पदस्थ स्थापना प्रभारी जीके पिल्लई ने भुगतान के बदले में आवेदक से 40000 रुपये रिश्वत की मांग की गई।

लोकायुक्त ने आवेदक की उक्त शिकायत का सत्यापन कराया, जो सही पाई गई। इसके बाद गुरुवार को लोकायुक्त एसपी के निर्देशन में 10 सदस्यीय टीम द्वारा एमपी नगर में मिलन रेस्टोरेंट में आरोपित जीके पिल्लई (उम्र 55 साल) को आवेदक से 40000 रुपए की रिश्वत राशि लेते हुए रंगेहाथों पकड़ा गया। लोकायुक्त टीम की कार्रवाई जारी है! इस दौरान उसके घर पर भी तलाशी ली जा रही है। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर रही है।