मेड इन इंडिया : अमेरिका में लहराई प्रदेश की कला, इंदौर के नासिर पहुंचे बटिक गोंडी कला लेकर

दुनियाभर के कलाकारों के बीच पसंद किया जा रहा भारतीय रंग

सारांश न्यूज़ डेस्क, भोपाल
सरहदों के पार भारत की कला, संस्कृति और यहां की कलात्मकता का परचम हमेशा लहराता रहा है। इसको दुनिया ने हमेशा सराहा भी है और चाहा भी है। इसी कड़ी में अब प्रदेश की कला भी जुड़ रही है। इंदौर से चली बटीक गोंडी प्रिंट इन दिनों अमेरिका की धरती पर दुनियाभर से आए कला प्रेमियों का ध्यान आकर्षित कर रही है।

अमेरिका के ग्वाटेमाला में विभिन्न देशों की कलाकृतियां प्रदर्शित की गई हैं। करीब एक सप्ताह चलने वाले इस आयोजन में देशभर के करीब 10 कलाकार अपनी कलाकृतियों के साथ अमेरिका पहुंचे हैं। इनमें मप्र का प्रतिनिधित्व इंदौर के शिल्पी मोहम्मद नासिर भी शामिल हैं। नासिर इस आयोजन में खास बटिक गोंडी प्रिंट का प्रदर्शन कर मेड इन इंडिया की धारणा को आगे बढ़ा रहे हैं। अपनी खास कला के चलते नासिर भारत सरकार वस्त्र मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय सम्मान से नवाजे जा चुके हैं। मप्र सरकार ने भी उन्हें राज्य स्तरीय विश्वकर्मा अवार्ड से सम्मानित किया है। नासिर इससे पहले भी देश के लगभग सभी बड़े शहरों में अपनी कला प्रदर्शित कर चुके हैं।

विदेशी रैंप पर देशी झलक
अमेरिका में जारी कला आयोजन के दौरान गुरुवार को फैशन शो आयोजित किया गया। इस आयोजन में कमोबेश सभी देशों के मॉडल ने रैंप वॉक किया। इन मॉडल्स में से कई ने भारतीय कलाकारों द्वारा तैयार किए गए परिधान का प्रदर्शन भी किया है।

वस्त्र मंत्रालय की कोशिश दुनिया में लहराए भारत का परचम
वस्त्र मंत्रालय की मप्र इकाइयों से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि हमारी कोशिश हमेशा यही रहती है कि अपने क्षेत्र से ऐसी डिजाइन और कलाकृति का जन्म हो, जिसको दुनिया भर के समीक्षक और कलाप्रेमी देखें और पसंद करें। डीसीएच भोपाल के सहायक निदेशक अर्चित सहारे और इंदौर की सहायक निदेशक अपर्णा देशपांडे ने कहा कि प्रदेश में कला का अंबार है। यहां की बाग प्रिंट, चंदेरी, गोंडी प्रिंट के अलावा भोपाल की जरी जरदौजी पूरी दुनिया में अपनी खास पहचान रखती है। इनको प्रचारित और विकसित करने के लिए लगातार आयोजन किए जा रहे हैं। प्रशिक्षित कलाकारों द्वारा नए लोगों को इन कलाओं से रूबरू कराया जा रहा है।