एक ही परिसर में होंगे चिकित्सा शिक्षा के 3 काउंसिल कार्यालय, विद्यार्थियों को नहीं होगी परेशानी

मंत्री श्री सारंग ने ली काउंसिल के नए भवन निर्माण संबंधी बैठक

सारांश न्यूज डेस्क, भोपाल
चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग Medical Education Minister Vishwas Sarang ने निर्देश दिए हैं कि एम्स के समीप बनने वाले चिकित्सा शिक्षा विभाग के मेडिकल, पैरा-मेडिकल एवं नर्सिंग काउंसिल का कार्यालय Medical Para-Medical & Nursing Council Office एक ही परिसर में हो, जिससे छात्रों को परेशानी का सामना न करना पड़े। एक ही परिसर में तीनों काउंसिल के कार्यालय व्यवस्थित और पारदर्शिता के साथ संचालित किए जाएं। मंत्री श्री सारंग ने यह निर्देश मेडिकल, नर्सिंग एवं पैरा-मेडिकल परिषद के नवीन भवन निर्माण संबंधी बैठक में दिए।

मंत्री श्री सारंग ने विभाग की एम्स के पास स्थित जमीन पर भवन निर्माण कार्य को जल्द शुरू करने को भी कहा। उन्होंने इस संबंध में विभागीय अधिकारी और भवन विकास निगम के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि उक्त परिसर में काउंसिल के भवन के साथ ही विद्यार्थियों के लिए कार्यक्रम के लिए एक ऑडिटोरियम बनाया जाए, जिसमें मीटिंग भी हो सके।

66वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता का शुभारंभ
खेल के बगैर युवाओं के व्यक्तित्व का विकास संभव नहीं है। किसी भी प्रतिस्पर्धा में खिलाड़ी भले ही एक दूसरे के प्रतिद्वंदी हो लेकिन खेल के बाद सभी एक साथ होते हैं। यही खेल भावना खेल का सबसे बड़ा तत्व है, जो जीवन में भी जरूरी है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग 66वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीडा प्रतियोगिता को संबोधित कर रहे थे।

राजधानी भोपाल के टीटी नगर स्टेडियम में 66वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता का शुभारंभ State level school sports competition started मंत्री श्री सारंग ने किया। 24 सितंबर तक चलने वाली इस स्क्वॉश, तलवारबाजी एवं योग प्रतियोगिता की मेजबानी भोपाल संभाग कर रहा है। जिसमें जबलपुर इन्दौर, रीवा, सागर, उज्जैन, ग्वालियर, नर्मदापुराम, शहडोल के अतिरिक्त जनजातीय कार्य विभाग के 14,17 एवं 19 वर्ष आयु वर्ग की टीमों के 370 बालक 350 बालिकाएं एवं 80 तकनीकी अधिकारी भी भाग ले रहे हैं।

इस अवसर पर मंत्री श्री सारंग ने अपने उद्बोधन में कहा कि कहा कि पिछली सरकारों के समय खेल बजट केवल 2 करोड़ रुपए हुआ करता था परंतु आज खेल बजट लगभग 200 करोड़ रुपए रखा गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश सरकार द्वारा खेल एवं खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।