वक्फ बोर्ड चुनाव : नहीं जुटा पाए योग्यता प्रमाण, मांगा दस दिन का समय

अल्पसंखयक कल्याण विभाग को लगाना पड़ी गुहार

सारांश न्यूज डेस्क, भोपाल
मप्र वक्फ बोर्ड सदस्यों की नियुक्ति Appointment of MP Waqf Board Members को लेकर अल्पसंख्यक कल्याण विभाग Minority Welfare Department को एक बार फिर अदालत की नाराजगी का सामना करना पड़ गया। विभाग की तरफ से वकील ने दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए दस दिन के समय की मांग की तो अदालत ने महा अधिवक्ता पर सवाल जड़ दिया, ये जिम्मेदारी विभाग की थी, उसे नियुक्ति से पहले ये प्रमाण पत्र सदस्यों से लेने चाहिए थे। हालांकि, चुनाव अधिकारी के तौर पर नई नियुक्ति की जानकारी पेश कर विभाग ने अपनी खानापूर्ति कर ली है। इधर, विधायक आरिफ मसूद की याचिका को भी सुनवाई में शामिल कर करीब पांच याचिकाओं पर अदालत ने सुनवाई पूरी कर दी है।

मप्र वक्फ बोर्ड गठन के लिए अल्पसंख्यक कल्याण विभाग द्वारा नॉमिनेट किए गए मेंबर डॉ सनवर पटेल और महबूब हुसैन की योग्यता और उनके नियुक्ति के आधार को विभाग बुधवार को सिद्ध नहीं कर पाया। विभाग की तरफ से अधिवक्ता ने योग्यता प्रमाण प्रस्तुत करने के लिए दस दिन के समय की गुहार लगाई है। विभाग ने अदालत को बताया कि दोनों सदस्यों को इसके लिए नोटिस जारी किए गए हैं। इनसे जवाब मिलते ही अदालत में प्रस्तुत कर दिए जाएंगे। सूत्रों का कहना है कि इस पर अदालत ने नाराजगी जताते हुए कहा कि विभाग को वह तमाम दस्तावेज नियुक्ति से पूर्व ही तलब किए जाने चाहिए थे, न कि अदालत के मांगने पर नोटिस देकर योग्यता प्रमाण मांगे जाएं।

आनन फानन में बनाए रिटर्निंग ऑफिसर
पिछली 6 सितंबर की सुनवाई के दौरान अदालत की नाराजगी के चलते विभाग ने रिटर्निंग ऑफिसर दाऊद अहमद खान का इस्तीफा ले लिया था। इसके बाद बुधवार को अदालत में जानकारी देने के लिए विभाग ने आनन फानन में
नए रिटर्निंग अधिकारी के तौर पर बीयू के रजिस्ट्रार मंसूरी की नियुक्ति कर दी है।

हुई पांच याचिकाओं पर सुनवाई
बुधवार को जबलपुर हाईकोर्ट में अलग अलग पांच याचिकाओं पर सुनवाई की गई है। इनमें विधायक आरिफ मसूद द्वारा दायर याचिका भी शामिल है। इसके अलावा समय पर चुनाव कराने, चुनाव में नियमों का पालन करने, नॉमिनेट किए गए सदस्यों की योग्यता संबंधी और अन्य याचिकाएं शामिल हैं। बुधवार को अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की गुजारिश पर अगली तारीख बढ़ा दी गई है। संभवतः अगली सुनवाई 11 अक्टूबर को हो सकती है।