Delhi में वायु प्रदूषण को लेकर कार्रवाई, 1700 पुराने वाहन हुए जब्त

नई दिल्ली। दिल्ली में वायु प्रदूषण की गंभीर संमस्या से निपटने के लिए सरकार लगातार कवायदें कर रही है। वाहनों से होने वाले प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए दिल्ली सरकार ने दस साल से अधिक पुरानी डीजल कारों या 15 साल से अधिक पुरानी पेट्रोल कारों पर लगाम लगाते हुए 1,700 से ज्यादा वाहनों को जब्त कर लिया है। इसी अवधि के दौरान 749 वाहन मालिकों पर जुर्माना लगाया गया है और 1,417 लोगों पर मुकदमा चलाया गया है।

2015 में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) और 2018 में सुप्रीम कोर्ट के अनुसार, 10 साल से अधिक पुराना कोई भी पंजीकृत डीजल वाहन और 15 साल से अधिक पुराना पेट्रोल वाहन राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में चल नहीं कर सकता है। हालांकि, 10 साल से अधिक पुराने डीजल वाहनों के मालिकों को एक बड़ी राहत देते हुए, दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने 18 नवंबर को घोषणा की है कि एक बार इलेक्ट्रिक किट के साथ एक वाहन को रेट्रोफिट करने के बाद, यह राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर 10 वर्षों से ज्यादा चल सकता है।

इस बीच, 7,79,304 स्पष्ट रूप से प्रदूषण करने वाले वाहनों और बिना प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (पीयूसीसी) के वाहनों का भी इसी समय सीमा के दौरान निरीक्षण किया गया है। इनमें से 21,449 का चालान किया गया है, 7,168 को जब्त किया गया है और 21,679 वाहन मालिकों पर मुकदमा चलाया गया है।

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) के अनुसार, प्रदूषण के स्थानीय स्रोतों के मामले में वाहनों से होने वाला उत्सर्जन दिल्ली के पीएम 2.5 स्तरों में सबसे अधिक योगदान देता है