शांति के नोबेल के लिए नामित हुए Mohammad Zubair और प्रतीक सिन्हा, जानें और कौन से नाम है शामिल

चुने गए नामांकन के आधार पर Mohammad Zubair और प्रतीक सिन्हा की फैक्ट-चेकर जोड़ी शांति पुरस्कार पाने के दावेदार के रूप में उभरी।

Mohammed Zubair

Mohammed Zubair: फैक्ट-चेकर्स प्रतीक सिन्हा और ऑल्टन्यूज के को-फाउंडर Mohammed Zubair 2022 के नोबेल शांति पुरस्कार जीतने के दावेदारों में शामिल हैं। टाइम की एक रिपोर्ट के अनुसार, दोनों ने “कानूनी तरीके से अफवाहों और फर्जी खबरों को खारिज किया” और अभद्र भाषा का प्रयोग करने वालों को भी जवाब दिया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि नॉर्वेजियन सांसदों, सट्टेबाजों की भविष्यवाणियों और पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट ओस्लो (PRIO) से चुने गए नामांकन के आधार पर Mohammed Zubair और प्रतीक सिन्हा की फैक्ट-चेकर जोड़ी शांति पुरस्कार पाने के दावेदार के रूप में उभरी।

टाइम रिपोर्ट में कहा गया है कि, “पत्रकार प्रतीक सिन्हा और Mohammed Zubair, इंडियन फैक्ट चैक वेबसाइट AltNews के को-फाउंडर भारत में गलत सूचनाओं से लगातार जूझ रहे हैं, जहाँ हिंदू राष्ट्रवादी भाजपा पार्टी पर मुसलमानों के खिलाफ अक्सर भेदभाव करने का आरोप लगाया जाता है। सिन्हा और जुबैर सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहों और फर्जी खबरों को कानूनी तरीके खारिज करते हैं।”

इस साल जून में, जुबैर को 2018 में किए गए एक ट्वीट के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली पुलिस की फर्स्ट इंफोर्मेंशन रिपोर्ट, एफआईआर कहती है कि ‘जुबैर के ट्वीट अत्यधिक उत्तेजक और नफरत की भावनाओं को भड़काने वाले हैं।“

उन पर ‘धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए जानबूझकर किए गए कृत्यों’ और धार्मिक आधार पर दुश्मनी को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया था।

फैक्ट-चैकर्स की गिरफ्तारी पर पूरे विश्व से प्रतिक्रियाएं आईं। अमेरिकी गैर-लाभकारी समिति ने पत्रकारों की रक्षा से संबंधित बयान जारी करते हुए कहा, “भारत में प्रेस की स्वतंत्रता के लिए सरकार ने प्रेस रिपोर्टिंग के सदस्यों के लिए सांप्रदायिक मुद्दों पर एक शत्रुतापूर्ण और असुरक्षित वातावरण बनाया है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के एक महीने बाद जुबैर तिहाड़ जेल से बाहर आ गए।

2022 का नोबेल शांति पुरस्कार-

2022 के नोबेल शांति पुरस्कार की दौड़ में लगभग 343 उम्मीदवार हैं – 251 व्यक्ति हैं और 92 संगठन हैं। TIME के ​​अनुसार अन्य नाम, जो शांति के लिए नोबेल जीतने के लिए पसंदीदा हैं, उनमें यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की, शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त, बेलारूसी विपक्षी राजनेता स्वियातलाना सिखानौस्काया, विश्व स्वास्थ्य संगठन और स्वीडिश जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग जैसे कई नाम शामिल हैं।

2022 के नोबेल शांति पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा स्थानीय समयानुसार 7 अक्टूबर को ओस्लो में सुबह 11 बजे की जाएगी।