Kadha Side Effects
Kadha Side Effects

Lifestyle: मौसम के बदलाव के कारण सर्दी-खांसी और जुकाम का खतरा काफी बढ़ जाता है, ऐसे में लोग काढ़ा पीना शुरू कर देते हैं, जिसमें काली मिर्च, दालचीनी, हल्दी, गिलोय, अश्वगंधा और इलायची जैसी चीजें डाली जाती है।

भारत में लोग आयुर्वेदिक तरीके से काढ़ा बनाकर सर्दी-खांसी और जुकाम की समस्या से छुटकारा पाने की कोशिश करते हैं, लेकिन इससे जुड़े एक गलती नुकसानदायक साबित हो जाती है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है, कि काढ़ा इम्यूनिटी बूस्टर है। लेकिन कई एक्सपर्ट ये मानते हैं कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आप एक दिन में 3 से 4 कप काढ़ा पी रहे हैं, तो इससे सेहत को काफी नुकसान पहुंच सकता है।

ज्यादा काढ़ा पीने से क्या समस्या हो सकती है-

गैस की समस्याः इम्यूनिटी बढ़ाने और सर्दी-खांसी, जुकाम से बचने के लिए अगर आप जरूरत से ज्यादा काढ़ा पीते हैं आपके पेट में गैस बनने लगता है इसलिए सीमित मात्रा में पी काढ़ा पीना चाहिए।

नाक में परेशानी: बहुत अधिक काढ़ा का सेवन करने से नाक में प्रॉब्लम शुरू हो जाती है। अगर आपने कंट्रोल नहीं किया तो नाक में सूखापन हो सकता है, या नाक से खून बढ़ने का खतरा पैदा हो जाता है।

पेट की परेशानी: जो लोग सीमित मात्रा से ज्यादा काढ़ा पीते हैं उनके पेट में एसिड अधिक बनने लगता है, जिससे पेट में जलन और इनडाइजेशन की समस्या पैदा हो जाती है, इसलिए ऐसा करने से बचें।

मुंह में छाले: अगर आप दिन में बार-बार काढ़ा पिएंगे तो फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है, क्योंकि इससे मुंह में छाले हो जाते हैं, जिससे भोजन करना और पानी पीना भी मुश्किल हो जाता है।

यूरिन की समस्या: ज्यादा काढ़ा पीने का असर आपकी यूरिनरी सिस्टम पर भी पड़ता है, क्योंकि इससे आपको बार-बार यूरिन पास करने के लिए वॉशरूम जाने के जरूरत होती है, साथ ही यूरिन में जलन भी पैदा हो सकती है।

किडनी:  ज्यादा काढ़े का सेवन करने से किडनी पर बुरा असर पड़ता है। आपको दिन में कम मात्रा में ही काढ़ा पीना है।

लीवर: एक्सपर्ट्स का मानना है कि काढ़े का ज्यादा सेवन शरीर के अहम अंग लीवर के लिए भी अच्छा नहीं होता है। ज्यादा काढ़ा पीने से लीवर टॉक्सिसिटी की समस्या हो सकती है। इसलिए अगर आप भी काढ़े का सेवन एक रेगुलर ड्रिंक के तौर पर करते हैं, तो आज से ही इस आदत को छोड़ दें।

पाइल्स: काढ़े को दालचीनी, काली मिर्च जैसी कई आयुर्वेदिक चीजों से बनाया जाता है और ऐसे में इसकी तासीर काफी गर्म हो जाती है। देखा जाए तो इसे मसालों से तैयार किया जाता है ऐसे में इसका ज्यादा सेवन पाइल्स की दिक्कत हो सकती।

एसिडिटी: काढ़े का सेवन अगर ज्यादा किया जाए, तो इससे एसिडिटी की दिक्कत भी हो सकती है। दरअसल, इसे मसालों से तैयार किया जाता है और ऐसे में शरीर में गैस या एसिडिटी हो सकती है। खांसी-जुकाम होने पर कुछ दिनों तक ही इसका सेवन करें।

ये भी पढ़ें- Lifestyle: अगर आपके पैरों में रहता है दर्द तो ये घरेलू नुस्खें अपनाएं