Bhopal Crime:  डीआईजी के वाहन चालक के खाते से जालसाजों ने निकाले 85 हजार

जालसाजों ने केवायसी करने के नाम पर झांसे में लिया और मोबाइल एप डाउनलोड कराने के चक्कर में बैंक खाते से 3 बार में 85 हजार रुपए निकाल लिए

Bhopal Crime
Bhopal Crime

भोपाल। भोपाल के अवधपुरी थाना क्षेत्र में रहने वाले एक डीआइजी के वाहन चालक को जालसाजों ने केवायसी करने के नाम पर झांसे में लिया और मोबाइल एप डाउनलोड कराने के चक्कर में बैंक खाते से 3 बार में 85 हजार रुपए निकाल लिए। अवधपुरी पुलिस ने आरक्षक की शिकायत पर धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

अवधपुरी पुलिस के अनुसार जितेंद्र सिंह राठौर पुत्र कमलेश सिंह राठौर (28) दतिया में एसएएफ की 29वीं बटालियन में पदस्थ हैं। एसएएफ में ही पदस्थ एक डीआईजी अवधपुरी थाना क्षेत्र के अनुपम नगर फेस-2 में रहते हैं। फरियादी जितेंद्र सिंह डीआईजी के वाहन चालक हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि 27 अक्टूर 2022 को वे डीआईजी के मकान में ही थी, तभी उनके पास एक जालसाज ने बैंक का कर्मचारी बनकर फोन किया और केवायसी अपडेट करने को कहा। मैंने बैंक कर्मचारी बने जालसाज की बात मान ली। उसने यूनो एप डाउनलोड करने को कहा। मैंने उक्त एप डाउनलोड करने लगा। एप डाउनलोड के लिए मांगी गई डिटेल भी फिल कर दी। इसके बाद मेरा फोन हैंग हो गया। फोन जब चालू हुआ तो मेरे फोन में तीन मैसेज पड़े थे। एक मैसेज 51 हजार, दूसरा 26 और तीसरा 9 हजार रुपए खाते से निकालने के मैसेज थे। पुलिस ने आरक्षक की शिकायत पर धोखाधड़ी का मामला मोबाइल धारक पर दर्ज कर लिया है।

Bhopal News: नर्मदा शिफ्टिंग के चलते आज भी 50 से ज्यादा क्षेत्रों में नहीं आएगा पानी

NEXT NEWS

छोटा भाई जमीन के 26 लाख खा गया, इससे प्रताड़ित होकर वृद्ध ने लगाई थी फांसी

Bhopal News: कोलार थाना क्षेत्र के अकबरपुर में रहने वाले 60 वर्षीय वृद्ध के आत्महत्या करने के मामले में पुलिस ने उसके छोटे भाई के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया है। छोटा भाई साझे की जमीन बेचकर मृतक के खाते के 26 लाख रुपए डकार गया है।

पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है। कोलार थाने के उप निरीक्षक उपेंद्र नाथ सिंह के अनुसार नन्हूलाल पाल पुत्र परमसुख पाल (60) अकबरपुर कोलार का रहनेवाला था। उसका छोटा भाई शिवचरण पाल भी उसके घर के बगल में परिवार के साथ रहता है। दोनों भाईयों के नाम अबकरपुर में जमीन थी। शिवचरण पाल ने एक जमीन का सौदा 52 लाख रुपए में किया।

नन्हूलाल पाल ने कहा कि ठीक है पूरी जमीन बेचनकर पैसा ले लो और आधा पैसा मेरा मेरे खाते में डाल देना। शिवचरण पाल ने जमीन बेचने में मिले 52 लाख रुपए पूरे ले लिए, उसमें 26 लाख रुपए बड़े भाई नन्हूलाल पाल को देना थे, जो नहीं दिया। नन्हूलाल जब भी भाई से पैसा मांगता, आरोपी प्रताड़ित करने लगा था। पैसा नहीं देने और प्रताड़ित करने के कारण ही नन्हूलाल ने आत्महत्या की थी। 3-4 नवंबर की दरमियानी रात उसने फांसी लगाई थी। पुलिस ने मर्ग जांच और बयानों के बचान शिवचरण पाल के खिलाफ अत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कर लिया है।