मौसम के उतार-चढ़ाव से हॉस्पिटल में रोजाना सर्दी-खांसी बुखार के पहुंच रहे हैं 400 से अधिक मरीज

भोपाल। ठंड की शुरूआत और मौसम के उतार-चढ़ाव का सीधा असर लोगों की सेहत पर पड़ रहा है। आलम यह है कि इन दिनों रोज शहर के निजी और सरकारी अस्पतालों में 400 से ज्यादा मरीज वायरल इंफेक्शन के पहुंच रहे हैं। इनमें ज्यादातर सर्दी-खांसी और बुखार के साथ गले से पीड़ित होते हैं। यही कारण है कि अस्पतालों की ओपीडी में भी 20 से 25 प्रतिशत तक इजाफा हो गया है। अगर बात जेपी और हमीदिया अस्पताल की करें तो इन्हीं दो अस्पतालों में रोज 100 से 120 के बीच सर्दी-खांसी के मरीज पहुंचते हैं।

इस बार मरीजों की तादाद ज्यादा है

डॉक्टरों की मानें तो नवंबर-दिसंबर में वायरल इंफेक्शन होना कोई नई बात नहीं है, लेकिन इस बार मरीजों की तादाद हर बार से ज्यादा है। इसकी भी वजह साफ है, पिछले एक हफ्ते में ही मौसम का मिजाज बार-बार बदलता रहा है। कभी तापमान नीचे गिर जाता है तो ठंडक हो जाती है तो कभी बढ़ने से गर्मी हो जाती है। यही वजह है कि मौसम में जल्दी-जल्दी हो रहे बदलाव के कारण भी यह स्थिति बन रही है।

AIIMS में शुरू हुआ ‘सार्थक रैन बसेरा’, ठंड में मरीजों के परिजनों को होगी सुविधा

सामान्य एंटीबायोटिक से 4 से 5 दिन में हो रहे ठीक

जेपी अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि अभी वायरल इंफेक्शन के जो मरीज सामने आ रहे हैं, उनके मामलों में एक बात अच्छी है कि उन्हें सामान्य एंटीबायोटिक जैसी दवाइयों से पूरी तरह आराम मिल रहा है। मरीजों को ठीक होने में 4 से 5 दिन का वक्त ही लग रहा है।

राहत यह है कि कोई गंभीर नहीं हो रहा है

यह सही है कि वर्तमान में सर्दी-खांसी के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। मरीज गला और बुखार की शिकायत लेकर आ रहे हैं। राहत यह है कि कोई गंभीर नहीं हो रहे हैं।

  • डॉ. आरके श्रीवास्तव, सिविल सर्जन, जेपी अस्पताल