MP भारत जोड़ो यात्रा का दूसरा दिन : प्रियंका भी राहुल के साथ कर रही हैं कदमताल

भोपाल। कांग्रेस सासंद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का आज मध्यप्रदेश में दूसरा दिन है। दूसरे दिन राहुल गांधी के साथ प्रियंका वाड्रा भी कदमताल करते नजर आ रही हैं। उनके पति रॉबर्ट वाड्रा और बेटा भी यात्रा में साथ हैं। यह पहली बार है जब प्रियंका गांधी भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हो रही हैं। जानकारी के अनुसार अगले 4 दिन तक प्रियंका पैदल चलेंगी।

प्रियंका के आगमन से कार्यकर्ताओं का उत्साह दोगुना

प्रियंका गांधी कल देर रात सपरिवार भारत जोड़ो यात्रा कैंप में पहुंची थीं। उनके साथ पति रॉबर्ट वाड्रा और बेटे रेहान वाड्रा भी हैं। प्रियंका गांधी के आगमन से कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उत्साह दुगना हो गया है। गुरुवार सुबह यात्रा बुरहानपुर के बोरगांव से शुरू हुई। दोपहर विराम भारत पेट्रोलियम दुल्हार फाटा के पास है।

दोपहर में थोड़ी देर विश्राम के बाद राहुल गांधी करीब सवा दो बजे टंट्या भील की जन्मस्थली पहुंचेंगे। यहां वीर क्रांतिकारी टंट्या भील को श्रद्धांजलि अर्पित कर वे एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इस सभा में हजारों की संख्या में आदिवासी समुदाय के लोग शामिल होंगे। दोपहर तीन बजे यात्रा पंधाना गुरुद्वारा से दुबारा शुरू होगी। छैगांव माखन में पदयात्रा का विराम होगा। जबकि भारत यात्रियों के साथ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी रोशिया, खेरदा में रात्रि विश्राम करेंगे।

मध्य प्रदेश में 399 किलोमीटर की दूरी तय करेगी यात्रा

5 दिसंबर को यात्रा राजस्थान में प्रवेश करने से पहले छह जिलों बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन, इंदौर, उज्जैन और आगर-मालवा के 25-30 विधानसभा क्षेत्रों से होते हुए मध्य प्रदेश में 399 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। मध्य प्रदेश की पांच लोकसभा सीटें भारत जोड़ो यात्रा के मार्ग में आती हैं। खंडवा, खरगोन, इंदौर, उज्जैन और देवास। इन सभी सीटों पर बीजेपी का कब्जा है। कांग्रेस का फोकस रूट की उन 16 विधानसभा सीटों पर है, जिन पर फिलहाल बीजेपी का कब्जा है। पार्टी 2023 के विधानसभा चुनाव में सभी 16 सीटों पर जीत का लक्ष्य लेकर चल रही है।

‘हिमंता बिस्वा को शर्म आनी चाहिए’, सद्दाम हुसैन वाले बयान पर भड़के दिग्विजय सिंह

NEXT NEWS

इंदौर आने से पहले विवादों में भारत जोड़ो यात्रा

  • जानिए बीजेपी ने क्यों कहा- माता अहिल्या कांग्रेसियों को सद्बुद्धि दे

इंदौर। कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा मध्यप्रदेश में प्रवेश कर चुकी है और बड़े ही उत्साह के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने राहुल गांधी की यात्रा का स्वागत किया। यात्रा अब धीरे-धीरे यात्रा इंदौर की ओर आ रही है, लेकिन इंदौर आने से पहले ही यह यात्रा विवादों में घिरती हुई नजर आ रही है। दरअसल, यात्रा जब इंदौर के राजवाड़ा पर पहुंचेगी तो रात अधिक हो जाने के कारण राजवाड़े पर स्थापित माता अहिल्या की प्रतिमा पर राहुल गांधी माल्यार्पण नहीं करेंगे, जिसको लेकर सिसायत शुरू हो गई है। बीजेपी ने इसको माता अहिल्या का अपमान बताया है।

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा इंदौर में आने से पहले ही विवादों में घिर गई है, जहां खालसा स्टेडियम में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के ठहरने को लेकर दबे सुर से विरोध होने पर स्थान परिवर्तन करते हुए इसे चिमनबाग कर दिया गया, वहीं अब एक नया विवाद सामने आ गया। राहुल गांधी की यात्रा जब इंदौर में आएगी तो किस तरह से उनका प्लान रहेगा इसको लेकर जब कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल से बात की तो उनका कहना था कि राहुल गांधी इंदौर में आएंगे तो सबसे पहले इंदौर के राजवाड़ा पर उनकी यात्रा पहुंचेगी, लेकिन अत्याधिक समय हो जाने के कारण राजबाड़ा पर मात्र नुक्कड़ सभा होगी। माता अहिल्या की प्रतिमा पर माल्यार्पण नहीं किया जाएगा। लेकिन जब उनसे पूछा गया कि जब भी कोई बड़ा नेता शहर में आता है तो माता अहिल्या की प्रतिमा पर जरूर माल्यार्पण करता है तो उस पर उनका कहना था कि रात हो जाने के कारण राहुल गांधी माल्यार्पण नहीं कर सकते, क्योंकि रात में माल्यार्पण नहीं करते हैं। लेकिन उन्होंने इसके साथ यह भी कहा कि आने वाले दिनों में माल्यार्पण को लेकर व्यवस्था जमाई जाएगी।

वहीं बीजेपी के नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे का कहना है कि मां अहिल्या इंदौर शहरवासियों के लिए आराध्य है और कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि अगर समय मिला तो हम जाएंगे। इसी से उनकी मानसिकता समझ आती है। मैं अहिल्या माता से प्रार्थना करता हूं कि सभी कांग्रेसियों को सद्बुद्धि दे। इंदौर की जनता कांग्रेस को कभी माफ नहीं करेगी। वो पहले भारत का इतिहास, भारत का भूगोल, इंदौर का इतिहास ही पूरी तरीके से जान लेते हैं तो इस तरह की बात नहीं करते। वहीं भारत जोड़ो यात्रा में प्रियंका वाड्रा और रॉबर्ट वाड्रा के शामिल होने पर गौरव ने कहा कि मुझे तो आचार्य हो रहा था कि अभी तक कांग्रेस अपने मूलरूप में क्यों नहीं है। मध्यप्रदेश आते ही हैं उनका परिवारवाद का चेहरा प्रियंका गांधी, रॉबर्ट वाड्रा सहित पूरा परिवार आ चुका है उनका स्वागत है।