गुरुग्राम में महिला के ऊपर पिटबुल कुत्ते ने किया हमला, अस्पताल में जिंदगी और मौत की लड़ रही जंग

महिला को स्थानीय लोगों ने पास के एक अस्पताल में पहुंचाया जहां मुन्नी जिंदगी से जूझ रही है। वह इलाके में घरेलू सहायिका का काम करती है।

सारांश टाइम्स (ट्रेंडिंग डेस्क)। गुरुग्राम के सिविल लाइंस इलाके में गुरुवार को पिट बुल कुत्ते द्वारा हमला किए जाने के बाद 30 वर्षीय एक महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। समाचार एजेंसी पीटीआई ने बताया कि महिला के एक रिश्तेदार की शिकायत के बाद कुत्ते के मालिक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। एजेंसी ने आगे कहा कि महिला की पहचान मुन्नी के रूप में हुई है, जिसके सिर और चेहरे पर गंभीर चोटें आई हैं। इससे पहले लखनऊ में एक 82 वर्षीय महिला को उसके पालतू पिट बुल कुत्ते ने मार डाला था।

गुरुग्राम मामले में मुन्नी एक हाउसिंग सोसाइटी के पास टहल रही थी, तभी उन पर कुत्ते ने हमला कर दिया। पीटीआई ने आगे कहा कि कुत्ते के मालिक की पहचान विनीत चिकारा के रूप में हुई है, जो उसे टहलाने के लिए बाहर ले गया था।

महिला ने पुलिस को बताया कि मिस्टर चिकारा ने कुत्ते का हार्नेस ढीला छोड़ दिया और पहले कुत्ते ने मुन्नी को नीचे गिराया और फिर उसे काटा। स्थानीय लोगों ने उसे पास के एक अस्पताल में पहुंचाया जहां मुन्नी जिंदगी से जूझ रही है। वह इलाके में घरेलू सहायिका का काम करती है।

पीटीआई ने सहायक पुलिस आयुक्त (अपराध) प्रीत पाल सिंह सांगवान के हवाले से कहा, “हम मामले की जांच कर रहे हैं और कानून के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।”

इससे पहले जुलाई में सेवानिवृत्त स्कूल शिक्षिका सुशीला त्रिपाठी लखनऊ में अपने घर की छत पर थीं, तभी उनके पालतू पिट बुल ने उन पर हमला कर दिया।

उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। महिला अपने बेटे के साथ रहती थी और परिवार में पिट बुल समेत दो पालतू कुत्ते थे।

बता दें कि पिट बुल मध्यम आकार का, छोटे बालों वाला कुत्ता है। इसे यूके के डेंजरस डॉग्स एक्ट, 1991 में ‘लड़ाई के लिए पैदा हुए कुत्तों’ में से एक के रूप में भी सूचीबद्ध किया गया है, जिसे सार्वजनिक सुरक्षा के उद्देश्यों के लिए अधिनियमित किया गया है।