COVID-19 के उपचार में ब्लड प्लाज्मा नहीं आ रहा काम, WHO ने दी ये सलाह

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीजों के रक्त से प्लाज्मा का उपयोग कर कोविड उपचार हल्के या मध्यम बीमारी वाले लोगों को नहीं दिया जाना चाहिए।

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित सलाह में, डब्ल्यूएचओ कहता है कि “वर्तमान साक्ष्य से पता चलता है कि यह जीवित रहने में सुधार नहीं करता है और न ही वेंटिलेटर की आवश्यकता को कम करता है। इसे अरेंज करना भी महंगा और समय लेने वाला है”।

इसने उन लोगों में रक्त प्लाज्मा के उपयोग के खिलाफ एक “मजबूत सिफारिश” की, जिनमें गंभीर कोविड -19 लक्षण नहीं हैं और कहा कि गंभीर और गंभीर बीमारी वाले रोगियों के लिए भी, उपचार केवल एक नैदानिक ​​​​परीक्षण के हिस्से के रूप में दिया जाना चाहिए।

कॉन्वेलसेंट प्लाज्मा एक स्वस्थ कोविड रोगी के रक्त का तरल हिस्सा है जिसमें संक्रमित होने के बाद शरीर द्वारा निर्मित एंटीबॉडी होते हैं।