जापान: ओसाका में व्यावसायिक इमारत में आग लगने से 27 लोगों के मरने की आशंका

नई दिल्ली: जापान के ओसाका शहर में शुक्रवार को एक मानसिक स्वास्थ्य क्लिनिक की व्यावसायिक इमारत में आग लगने से 27 लोगों के मारे जाने की आशंका है।

टीवी फुटेज में दिखाया गया है कि आग बुझाने के बाद दर्जनों दमकलकर्मी कार्यालय की संकरी इमारत के अंदर और बाहर काम कर रहे हैं।

चौथी मंजिल का जला हुआ इंटीरियर, जिसमें मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं और सामान्य चिकित्सा देखभाल प्रदान करने वाला एक क्लिनिक था, टूटी और काली खिड़कियों के माध्यम से दिखाई दे रहा था।

ओसाका पुलिस के एक प्रवक्ता ने एएफपी को बताया कि अधिकारी आग के कारणों की जांच कर रहे हैं, लेकिन वह सार्वजनिक प्रसारक एनएचके द्वारा पुलिस सूत्रों का हवाला देते हुए रिपोर्ट की पुष्टि नहीं कर सके, क्योंकि “मौके पर परिस्थितियों को देखते हुए आगजनी की संभावना है”।

ओसाका अग्निशमन विभाग के एक अधिकारी ने एएफपी को बताया कि आग में घायल हुए 28 लोगों में से 27 की सांसें थम गई हैं। जापान में केवल डॉक्टर ही आधिकारिक तौर पर किसी मृत व्यक्ति को प्रमाणित कर सकता है।

चौथी मंजिल पर सुबह 10:18 बजे आग का पता चला,” उन्होंने कहा। “दोपहर तक 70 दमकल गाड़ियां घटनास्थल पर पहुंच गईं। अधिकारी ने बताया कि पश्चिमी जापान के शहर में किताशिन्ची रेलवे स्टेशन के पास एक व्यस्त कारोबारी इलाके में लगी आग पर आधे घंटे के बाद काबू पा लिया गया।

आग देखने वाली एक युवती ने ब्रॉडकास्टर को बताया कि उसने चौथी मंजिल पर एक महिला को फंसा हुआ देखा। उसने कहा, “वह बाहर झुकी (खिड़की से) और ‘कृपया मदद करें’ जैसी बातें कह रही थी… वह बहुत कमजोर लग रही थी। हो सकता है कि उसने बहुत अधिक धुआं अंदर लिया हो।

ओसाका एक प्रमुख आर्थिक केंद्र, टोक्यो क्षेत्र के बाद जापान का दूसरा सबसे बड़ा महानगर है। जापान में घातक आग असामान्य है। यहां निर्माण के सख्त मानक हैं। एक साल पहले, क्योटो एनीमेशन स्टूडियो पर 2019 में आगजनी के हमले में एक व्यक्ति पर हत्या का आरोप लगाया गया था। जिसमें 36 लोग मारे गए थे, जो दशकों में देश का सबसे घातक हिंसक अपराध था। 2008 में ओसाका में एक वीडियो की दुकान पर आगजनी में 16 लोगों की मौत हो गई थी।